काबुलीवाला तथा अन्य कहानियां : रवीन्द्रनाथ ठाकुर द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कहानी | Kabulivala Tatha Anya Kahaniyan : by Ravindranath Thakur Hindi PDF Book – Story (Kahani)

काबुलीवाला तथा अन्य कहानियां : रवीन्द्रनाथ ठाकुर द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - कहानी | Kabulivala Tatha Anya Kahaniyan : by Ravindranath Thakur Hindi PDF Book - Story (Kahani)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name काबुलीवाला तथा अन्य कहानियां / Kabulivala Tatha Anya Kahaniyan
Author
Category, , , ,
Language
Pages 134
Quality Good
Size 13 MB

पुस्तक का विवरण : मैं कहूंगा, मेरी कहानियां में कहीं पर भी यथार्थता की कमी नहीं हुई है। जो कुछ मेंने लिखा है, वह अपनी आँखों से देखा हुआ, हृदय से अनुभव किया हुआ-वह मेरा प्रतक्ष्य अनुभव है-अपनी आँखों-देखी घटनाएं और चरित्र है। उनको केवल रागात्मक कल्पना से प्रेरित मानना ठीक नहीं होगा। सोचकर देखने से तुम्हें पता लगेगा कि जो……….

Pustak Ka Vivaran : Main Kahoonga, meree kahaniyan mein kahin par bhee yatharthata ki kami nahin huyi hai. Jo kuchh mainne likha hai, vah apani Ankhon se dekha huya, hrday se anubhav kiya huya-vah mera pratakshy anubhav hai-apani Aankhon-dekhi ghatanayen aur charitr hai. Unako keval Ragatmak kalpana se prerit manana theek nahin hoga. Sochakar dekhane se tumhen pata lagega ki jo…………

Description about eBook : I would say, there is no lack of reality in my stories anywhere. Everything I have written, seen with my own eyes, experienced with my heart — that is my perceptive experience — my own eyes — seen events and character. It would not be right to consider them inspired only by the romantic imagination. Thinking carefully you will know that…………..

“प्रत्येक शिशु एक संदेश लेकर आता है कि भगवान मनुष्य को लेकर हतोत्साहित नहीं है।” रविन्द्रनाथ टैगोर
“Every child comes with the message that God is not yet discouraged of man.” Rabindranath Tagore

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment