कहानीकुण्ड : किशोरी लाल द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कहानी | Kahani Kund : by Kishori Lal Hindi PDF Book – Story (Kahani)

कहानीकुण्ड : किशोरी लाल द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - कहानी | Kahani Kund : by Kishori Lal Hindi PDF Book - Story (Kahani)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name कहानीकुण्ड / Kahani Kund
Author
Category,
Language
Pages 165
Quality Good
Size 25.6 MB
Download Status Available
कहानीकुण्ड पुस्तक का कुछ अंश : नाम तो उसका पारबती था परन्तु घर वाले उसे पगली कहते थे | वह मुर्ख नहीं थी | एक साधारण लड़की थी जिसे संसार के आचार व्यवहार का ज्ञान नाम मात्र था | जो जैसे कहे वैसा ही करती थी | कोई टोकटाकी नहीं, कोई प्रतिरोध नहीं | माँ कहे झाड़ लगा दे, चुपके से झाड़ लगा देगी | पिता कहे दुकान में मेरा हाथ बटा दे तो झट तैयार हो जाएगी………..
Kahani Kund PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : Naam to uska Parbati tha parantu ghar vale use pagli kahte the. Vah murkh nahin thi. Ek sadharan ladki thi jise sansar ke aachar vyavahar ka gyan naam matr tha. Jo jaise kahe vaisa hi karti thi. Koi tokataki nahin, koi pratirodh nahin. Maan kahe jhadu laga de, chupke se jhadu laga degi. Pita kahe dukan mein mera hath bata de to jhat taiyar ho jaegi…………
Short Passage of Kahani Kund Hindi PDF Book : The name was his parvati, but the houseman used to call him a madman. He was not a fool. An ordinary girl who knew the behavior of the world was simply Naam. That was what they used to say. No Tokataki, No Resistance. A mother will say a broom, she will put a broom. If the father says my hand in the shop, it will be ready immediately………………
“अपनी सामर्थ्य का पूर्ण विकास न करना दुनिया में सबसे बड़ा अपराध है। जब आप अपनी पूर्ण क्षमता के साथ कार्य निष्पादन करते हैं, तब आप दूसरों की सहायता करते हैं।” ‐ रोजर विलियम्स
“The greatest crime in the world is not developing your potential. When you do your best, you are helping others.” ‐ Roger Williams

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment