कला का पुरस्कार : पांडेय बेचन शर्मा द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – उपन्यास | Kala Ka Puraskar : by Pandey Bechan Sharma Hindi PDF Book – Novel ( Upanyas )

Book Nameकला का पुरस्कार / Kala Ka Puraskar
Author
Category,
Language
Pages 164
Quality Good
Size 10.5 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : राजकुमारी चंपा के पुष्प की तरह सुरंग ,सुगन्धित और सुकुमार शरीर पर ,धानी रंग की रेशमी सारी थी ; जिसमे ,कोई आधा इंच चौड़ा सोने का किनारा था | वायु जब कभी उसके सुन्दर आँचल में लहरे पैदा करती तब भीतर से सुफैद रेशम की कुर्ती झांकी झलक जाती | उस पर भी सोने का काम था | तथा उसकी गर्दन राजकुमारी के गले की प्राकृतिक हंसली तक ढीली थी…….

Pustak Ka Vivaran : Rajkumari champa ke pushp ki tarah surang ,sugandhit aur sukumar sharir par ,dhani rang ki ,reshami sari thi ; jisme ,koi aadha inch chauda sone ka kinara tha. Vayu jab kabhi uske sundar aanchal mein lahre paida karti tab bhitar se suphaid resham ki kurti jhanki jhalak jati. Us par bhi sone ka kaam tha. Tatha uski gardan rajkumari ke gale ki prakrtik hansali tak dhili thi…………

Description about eBook : Like the flower of Princess Champa, the tunnel, fragrant and dried body, there was silk, silk; There was a half-inch wide gold edges. Whenever the wind produced waves in its beautiful anchalas, the white table was covered with a white sheet of sapheed silk. There was also gold work on it. And his neck was loose from the princess’s neck to the natural clavicle………………

“हर बालक एक कलाकार है। समस्या है कि वयस्क हो जाने पर भी कैसे कलाकार बना रहे।” ‐ पेब्लो पिकासो
“Every child is an artist. The problem is how to remain an artist once he grows up.” ‐ Pablo Picasso

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment