कानूरु हेग्गडिति : कुवेम्पु द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – उपन्यास | Kanuru Heggaditi : by Kuvempu Hindi PDF Book – Novel (Upanyas)

Book Nameकानूरु हेग्गडिति / Kanuru Heggaditi
Author
Category, , , ,
Language
Pages 518
Quality Good
Size 20 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : रात को जब मैं लौटा तो वह सो चुकी थी। बाहर से ही ताला खोल लेने को दोनों के पास अपनी-अपनी चाबी रहती है। विभू से सामना होने की सम्भावना से मुझे घबराहट सी हो रही थी और लगा कि वास्तव में दोष मेरा ही है। अक्सर घबराहट झेलनाहट में बदल जाती है और लगता……

Pustak Ka Vivaran : Vah Bhala janvar uthakar khada huya aur Aagantuk ko dekha. Usi Aankhon se kisi gyan ya agyan ka pata na laga, to bhi chhote ne samajh liya ki bail ne usko pahchan liya hai, isliye usko khushi huyi. Uski gardan ke neeche ke chamade par hath phirakar pyar dikhaya, phir doosare bail ke pas gaya, to vah udveg se uchhal-kood karane laga. Chhota bhai chhalang markar…….

Description about eBook : The good animal stood up and looked at the visitor. The same eyes did not detect any knowledge or ignorance, yet the little one understood that the bull had recognized him, so he was happy. Showed love by putting his hand on the leather under his neck, then went to the other bull……

“रोटी या सुरा या लिबास की तरह कला भी मनुष्य की एक बुनियादी ज़रूरत है। उसका पेट जिस तरह से खाना मांगता है, वैसे ही उसकी आत्मा को भी कला की भूख सताती है।” इरविंग स्टोन
“Art’s a staple. Like bread or wine or a warm coat in winter. Those who think it is a luxury have only a fragment of a mind. Man’s spirit grows hungry for art in the same way his stomach growls for food.” Irving Stone

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment