कसक : अमृता प्रीतम द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कहानी | Kasak : by Amrita Pritam Hindi PDF Book – Story (Kahani)

Book Nameकसक / Kasak
Author
Category, , ,
Language
Pages 127
Quality Good
Size 4 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : खुशनसीबी सीखने के लिए फैज को अपने घर भाटी दरबाजे से दिल्‍ली दरबाजे जाना पड़ता था | बह दूसरे दिन की हाजिरी देता और खाली हाथ घर लौटता तो उसकी टांगे जवाब दे रहीं होती | एक दिन वह मुँह-अँधेरे उठ बैठा | दिल्‍ली दरबाजे जाने की बजाय वह गवालमण्डी की ओर चल पड़ा | सब्जीमण्डी में सब्जियों की गाड़ियां खड़ी थी……

Pustak Ka Vivaran : khush Naseeb seekhane ke liye phaij ko apane Ghar bhate daravaje se dilli daravaje jana padata tha. Vah dusare din ki hajiri deta aur khali hath ghar lautata to usaki tange javab de Rahin hoti. Ek din vah munh-Andhere uth baitha. Dilli Darabaje jane ki bajay vah Gavalamandi ki or chal pada. Sabjeemandi mein sabjiyon ki Gadiyan khadi thin………….

Description about eBook : To learn happiness, Faiz had to go to Delhi door from his house Bhati door. When he returned to the house the second day and his hands returned empty handed, his legs would have been answering. One day he got up his face. Instead of going to Delhi, he walked towards Gawalmandi. Vegetable carts were standing in the sabji mandi…………..

“हमें यह शिक्षा दी जानी चाहिए कि हमें किसी कार्य को करने के लिए प्रेरणा की प्रतीक्षा नहीं करनी चाहिए। कर्म करने से हमेशा प्रेरणा का जन्म होता है। प्रेरणा से शायद ही कर्म की उत्पत्ति होती हो।” ‐ फ्रेंक टिबोल्ट
“We should be taught not to wait for inspiration to start a thing. Action always generates inspiration. Inspiration seldom generates action.” ‐ Frank Tibolt

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment