पिंजर तथा अमृता प्रीतम की रचनाएँ : अमृता प्रीतम द्वारा हिन्दी पीडीऍफ़ पुस्तक | Pinjar Tatha Amrita Pritam Ki Rachnaye : by Amrita Pritam Hindi PDF Book

पिंजर तथा अमृता प्रीतम की रचनाएँ : अमृता प्रीतम द्वारा हिन्दी पीडीऍफ़ पुस्तक | Pinjar Tatha Amrita Pritam Ki Rachnaye : by Amrita Pritam Hindi PDF Book
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name पिंजर तथा अमृता प्रीतम की रचनाएँ / Pinjar Tatha Amrita Pritam Ki Rachnaye
Author
Category, , ,
Language
Pages 757
Quality Good
Size 13 MB
Download Status Available
पिंजर तथा अमृता प्रीतम की रचनाएँ पुस्तक का कुछ अंशप्रस्तुत पुस्तक में अमृता प्रीतम जी दवारा लिखित प्रसिद्ध उपन्यासों का संकलन है| इस पुस्तक में पाठक जनों को “पिंजर”, “नागमणि”, “यात्री’, “आक के पत्ते”, “कोई नहीं जनता”, “यह सच है”, “तेरहवां सूरज”, “उनचास दिन” आदि रचनाएँ पढने के लिए उपलब्ध हैं………
Pinjar Tatha Amrita Pritam Ki Rachnaye PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : Prastut Pustak mein Amrita Pritam Ji dwara likhit prasiddh upanyason ka sankalan hai. Is Pustak mein Pathak Janon ko “Pinjar”, “Naagmani”, “Yatri”, “Aak ke Patte”, “Koi Nahi Janta”, “Yah Sach Hai”, “Terahavan Suraj”, “Unchas Din” adi Rachnaye padhne ke lie uplabdh hain………….

 

Short Passage of Pinjar Tatha Amrita Pritam Ki Rachnaye Hindi PDF Book : The book presented is a compilation of famous novels written by Amrita Pritam. In this book, the reader should read the compositions such as “Pinjar”, “Nagmani”, “Yatri”, “Aak Ka Patte”, “Koi Nahi Janta”, “Yeh Sach Hai”, “Terahwan Suraj”, “Unchas Din” Are available……………..
“मृत्यु के डर के निवारण का शायद सर्वोत्तम उपाय इस बात पर विचार करने में है कि जीवन की एक शुरुआत होती है और एक अंत होता है। एक समय था जब आप नहीं थे: उससे हमे कोई मतलब नहीं होता। तो फिर हमें क्यों तकलीफ होती है कि ऐसा समय आएगा जब हम नहीं होंगे? मृत्यु के बाद सब कुछ वैसा ही होता है जैसा हमारे जन्म से पहले था।” – विलियम हज़्लिट्ट
“Perhaps the best cure for the fear of death is to reflect that life has a beginning as well as an end. There was a time when you were not: that gives us no concern. Why then should it trouble us that a time will come when we shall cease to be? To die is only to be as we were before we were born.” – William Hazlitt

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment