कीर्ति शेष : विमला शर्मा द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – उपन्यास | Kirti Shesh : by Vimala Sharma Hindi PDF Book – Novel (Upanyas)

Book Nameकीर्ति शेष / Kirti Shesh
Author
Category, , , ,
Language
Pages 144
Quality Good
Size 2 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : कहने के साथ ही ओतिन ने अपनी गरम साँसें उसके मुह पर छोड दीं और उठकर आकाश की ओर देखा, मानो गरम साँसों को परस्पर आलिंगन करते हुए जाते सूर्य ने देख लिया हो । ओतिन धीरे-धीरे मिताली के साथ चल दिया। कुछ दूर चलने पर ओतिन अपने पथ की शोर चला गया । पर मिताली उसी पथ की ओर दृष्टि पसार कर खड़ी रही ओतिन गरम…….

Pustak Ka Vivaran : Kahane ke sath hee otin ne apani garam sansen usake muh par chhod deen aur uthakar Aakash kee or dekha, Mano Garam sanson ko paraspar Aalingan karate hue jate soory ne dekh liya ho . Otin dheere-dheere mitalee ke sath chal diya. Kuchh door chalane par otin apane path kee shor chala gaya . Par Mitali usee path kee or drshti pasar kar khadi rahi otin garam……..

Description about eBook : At the same time, Otin left his hot breaths at his mouth and got up and looked at the sky, as if the Sun had seen the hot breaths intermingling. Otin slowly walked with Mithali. When walking a little farther, Otin made a noise of his path. But Mithali kept looking at the same path and continued to warm up………….

“केवल एक भावी लक्ष्य के लिए जिंदगी जीना एक साधारण बात है। पर्वत के ढलान पर चढ़ने की प्रक्रिया में लीन होने, अर्थात वर्तमान में रहने से ही जीवन सार्थक बनता है, न कि बस चोटी पर पहुंचने की आशा में रहने से।” ‐ राबर्ट एम.पिरसिग
“To live only for some future goal is shallow. It’s the sides of the mountain that sustain life, not the top.” ‐ Robert M. Pirsig

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment