कोई अजनबी नहीं : शैलेश मटियानी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – उपन्यास | Koi Ajnabee Nahin : by Shailesh Matiyani Hindi PDF Book – Novel (Upanyas)

कोई अजनबी नहीं : शैलेश मटियानी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - उपन्यास | Koi Ajnabee Nahin : by Shailesh Matiyani Hindi PDF Book - Novel (Upanyas)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name कोई अजनबी नहीं / Koi Ajnabee Nahin
Author
Category, , ,
Language
Pages 124
Quality Good
Size 8 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : रामप्यारी को रत्तो ताई की इस झुग्गी में आये कई दिन हो गये है, मगर रामप्यारी अभी भी यह निर्णय कर सकने की स्थिति में नहीं आ पायी है, कि उसे रत्तो ताई की बा छोड़ देनी चाहिए, या नहीं। रत्तो ताई ने हरभजन चौधरी को लेकर जो कुछ कहा है, उसको ठीक वैसे ही बाहर निकाल फेंकें या नहीं, जैसे कान में से आधा अंदर घुसा कनखजूरा…….

Pustak Ka Vivaran : Rampyari ko Ratto Tai ki is Jhuggi mein Aaye kai din ho gaye hai, Magar Ramapyari Abhi bhee yah Nirnay kar sakane ki sthiti mein nahin aa Payi hai, ki use Ratto Tai ki Jhuggi chhod deni chahiye, ya nahin. Ratto Tai ne Harabhajan chaudhari ko lekar jo kuchh kaha hai, usako theek vaise hee bahar Nikal phenken ya nahin, jaise kan mein se Aadha Andar ghusa kanakhajoora……..

Description about eBook : It has been several days since Rampyari came to this slum of Ratto Tai, but Rampyari has still not been able to decide whether she should leave Ratto Tai’s slum or not. What Ratto Tai has said about Harbhajan Chaudhary, throw it out as it is or not, like half of the ear entered inside… ..

“ज्ञान में पूंजी लगाने से सर्वाधिक ब्याज मिलता है।” ‐ बेंजामिन फ्रेंकलिन
“An investment in knowledge pays the best interest.” ‐ Benjamin Franklin

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment