कृषिसार : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कृषि | Krishi Saar : Hindi PDF Book – Agriculture (Krishi)

कृषिसार : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - कृषि | Krishi Saar : Hindi PDF Book - Agriculture (Krishi)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name कृषिसार / Krishi Saar
Author
Category,
Language
Pages 180
Quality Good
Size 6.3 MB
Download Status Available

कृषिसार का संछिप्त विवरण : सर्व साधारण को विदित है की भारत वर्ष का निरवाह खेती ही पर निर्भर है प्रति सौ मनुष्य में से ८५ प्रतिशत मनुष्य कृषि कर्म में प्रवृत्त रहते है | पुराने समय में भी ऐसा ही था क्योकि वन जाने के बाद श्री रामचन्द्र जी ने भरत जी से मिलने पर पहला सवाल यही पूछा था की जो सदेव जलप्रबंध कृषि के लिएकिया गया था वो कायम है, या नहीं……….

Krishi Saar PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Sarv sadharan ko vidit hai kio bharat varsh ka niravah kheti hi par nirbhar hai prati sau manushy mein se 85% manushy krshi karm mein pravrtt rahte hai. Purane samay mein bhi aisa hi tha kyoki van jane ke baad Shri Ramachandr ji ne Bharat ji se milne par pahla saval yahi puchha tha ki jo sadev jalprabandh krshi ke lie kiya gaya tha vo kayam hai, ya nahin…………
Short Description of Krishi Saar PDF Book : It is known to all ordinary that the maintenance of India is dependent on farming, 85% of the 100 human beings are engaged in agricultural work. It was the same in the old time as after going to the forest, Shri Ramchandraji had asked the first question on meeting Bharat ji, that the Sadev water management was done for agriculture, whether it is sustainable or not…………..
“मेरे साथ जो कुछ अप्रिय हो सकता है, उन सभी से मैं बड़ा हूं। यह सभी बातें, दुःख, दुर्भाग्य, तथा पीड़ाएं, मेरे दरवाजे से बाहर हैं। मैं घर में हूं तथा मेरे पास घर की चाबी है।” ‐ चार्ल्स फ्लैचर ल्यूम्मिस
“I am bigger than anything that can happen to me. All these things, sorrow, misfortune, and suffering, are outside my door. I am in the house and I have the key.” ‐ Charles Fletcher Lummis

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment