क्रोध-विजय : डा० रामस्वरूप द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – मनोविज्ञान | Krodh Vijay : by Dr. Ram Swarup Hindi PDF Book – Psychology (Manovigyan)

क्रोध-विजय : डा० रामस्वरूप द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - मनोविज्ञान | Krodh Vijay : by Dr. Ram Swarup Hindi PDF Book - Psychology (Manovigyan)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name क्रोध-विजय / Krodh Vijay
Author
Category, , ,
Language
Pages 221
Quality Good
Size 22.6 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : यदि किसी पढ़े-लिखे व्यक्ति से पूछा जाये कि क्रोध क्या है, तो उत्तर मिलेगा-हदय का एक भाव | सम्भव है, अपने कथन के समर्थन में वह यह भी कहे कि जैसे प्रेम, घृणा, आश्चर्य आदि भाव है, वैसे ही क्रोध भी | परन्तु प्रश्न पूर्णतया समाप्त नहीं हो जाता, क्रोध से भाव पर जा पहुंचना है | यदि क्रोध एक भाव है तो भाव क्या है……

Pustak Ka Vivaran : Yadi kisi padhe-likhe vyakti se puchha jaye ki krodh kya hai, to uttar milega-hraday ka ek bhav. Sambhav hai, apne kathan ke samarthan mein vah yah bhi kahe ki jaise prem, ghrna, aashchary aadi bhav hai, vaise hi krodh bhi. Parantu prashn purnataya samapt nahin ho jata, krodh se bhav par ja pahunchna hai. Yadi krodh ek bhav hai to bhav kya hai ?…………

Description about eBook : If a well-educated person is asked what is anger, then the answer will be – a sense of heart. It is possible, in support of his statement, he also says that like love, hatred, surprise, etc., anger is also there. But the question does not end completely, it is to reach the emotion with anger. If anger is an expression then what is the feeling?…………….

“मैं अपने जीवन को एक पेशा नहीं मानता। मैं कर्म में विश्वास रखता हूं। मैं परिस्थितियों से शिक्षा लेता हूं। यह पेशा या नौकरी नहीं है – यह तो जीवन का सार है।” ‐ स्टीव जॉब्स, संस्थापक, एप्पल
“I don’t think of my life as a career. I do stuff. I respond to stuff. That’s not a career — it’s a life!” ‐ Steve Jobs, Founder, Apple

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment