महापुराणों का परिचय : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – पुराण | Mahapuranon Ka Parichay : Hindi PDF Book – Puran

Book Nameमहापुराणों का परिचय / Mahapuranon Ka Parichay
Category, , , ,
Language
Pages 23
Quality Good
Size 77 KB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : भविष्य में होने वाली घटनाओं का वर्णन होने के कारण इसमें समय-समय पर उत्पन्न विद्वानों ने अनेक समय की घटनाओं को जोड़ दिया है, जिससे सारा पुराण गड़बड़ का भंडार हो गया है। इसमें अंगरेजों के लिये अंग्रेज शब्द का 54०० आ है। इस पुराण का मूल रूप समय-समय पर परिवर्तित होता गया है और बेडौल ठूसठास के कारण यह अज्ञैय होता चला गया है…….

Pustak Ka Vivaran : Dhavishy mein hone Bali Ghatanaon ka Varnan hone ke karan Isamen samay-samay par Utpann Vidvanon ne anek samay ki Ghatanaon ko jod diya hai, jisase sara Puran Gadabad ka bhandar ho gaya hai. Isamen Angarejon ke liye Angrej shabd ka prayog hua hai. is Puran ka mul rup samay-samay par Parivartit hota gaya hai aur bedaul thusathas ke karan yah agyey hota chala gaya hai………..

Description about eBook : Due to the description of future events, scholars born from time to time have added events of many times in it, due to which the whole Purana has become a repository of mess. In this, the word English has been used for the British. The original form of this Purana has changed from time to time and due to unformed rigidity, it has become unknowable………..

“अभिकल्पना किसी यंत्र की बाहरी बनावट मात्र नहीं है। अभिकल्पना तो इसकी कार्यविधि का मूल है।” स्टीव जॉब्स
“Design is not just what it looks like and feels like. Design is how it works.” Steve Jobs

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment