मन की बात हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Man Ki Baat Hindi PDF Book

Book Nameमन की बात / Man Ki Baat
Category,
Language
Pages 152
Quality Good
Size 5.4 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : मनुष्य जीवन कर्ममय है। बिना कुछ किये मनुष्य तो मनुष्य पशु पक्षी आदिको भी चैन नहीं पड़ता। साभिकों कुछ न कुछ करना आवश्य पड़ता है। यह ठीक है की सभी एक काम नहीं करते, कोई कुछ करता है और कोई कुछ करता है, परंतु काम सभी को करना पड़ता है इस बात मे संदेह नहीं है। मनुष्य के लिए कर्म करना आवश्यक हो जाता……

Pustak Ka Vivaran : manushy jeevan karmamay hai. bina kuchh kiye manushy to manushy pashu pakshee aadiko bhee chain nahin padata. saabhikon kuchh na kuchh karana aavashy padata hai. yah theek hai kee sabhee ek kaam nahin karate, koee kuchh karata hai aur koee kuchh karata hai, parantu kaam sabhee ko karana padata hai is baat me sandeh nahin hai. manushy ke lie karm karana aavashyak ho jaata hai………….

Description about eBook : Man life is endless. Human beings do not even relax without any other human beings. Generations need to do something. It is fine that not all do one thing, someone does something and nobody does something, but all have to do the work, there is no doubt about it. It is necessary for a person to act…………..

“आपको मानवता में विश्वास नहीं खोना चाहिए। मानवता एक सागर की तरह है, यदि सागर की कुछ बूंदे खराब हैं तो पूरा सागर गंदा नहीं हो जाता है।” ‐ मोहनदास गांधी
“You must not lose faith in humanity. Humanity is an ocean; if a few drops of the ocean are dirty, the ocean itself does not become dirty.” ‐ Mohandas Gandhi

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment