मानवता के झरने : काका साहब कालेलकर द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कहानी | Manavta Ke Jharane : by Kaka Sahab Kalelkar Hindi PDF Book – Story (Kahani)

मानवता के झरने : काका साहब कालेलकर द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - कहानी | Manavta Ke Jharane : by Kaka Sahab Kalelkar Hindi PDF Book - Story (Kahani)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name मानवता के झरने / Manavta Ke Jharane
Author
Category, , , ,
Language
Pages 162
Quality Good
Size 5 MB
Download Status Available

मानवता के झरने का संछिप्त विवरण : कानजी मान गया। मेरी बाते उसकी समझ में पूरी तरह आ गयी। नैतिक दृष्टि के साथ व्यवहार की बात भी किस प्रकार बराबर ठीक बैठती है, यह यदि उसको जँचा सकूँ तो शायद वह अपने जिस निर्णय पर टिका रहे और अगर फाँसी की सजा हुई भी तो वह बाद मे मुझे शॉप न दें, जिस खयाल से मैंने उससे कहा, “सच्ची बात कहने में नीति तो है ही, परन्तु व्यावहारिक लाभ………

Manavta Ke Jharane PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Kan ji man gaya. Meri bate usaki samajh mein poori tarah aa gayi. naitik drshti ke sath vyavhar ki bat bhi kis prakar barabar theek baithati hai, yah yadi usako jancha sakoon to shayad vah apane jis nirnay par tika rahe aur agar Fansi ki saja huyi bhi to vah bad me mujhe shaump na den, jis khayal se mainne usase kaha, “Sachchi bat kahane mein neeti to hai hi, parantu vyavaharik labh………..
Short Description of Manavta Ke Jharane PDF Book : Kanji agreed. My words became fully understandable to him. How can the matter of behavior with moral vision fit well, if I can catch it, then maybe he will not stick to me later on the decision he has made and even if he is hanged, the idea that I asked him to Said, “There is a policy in saying the truth, but practical benefits ……….
“सुअवसरों पर कदम बढ़ाना ही सफलता की सीढ़ी चढ़ने का उत्तम तरीका है।” ‐ ऐन रैंड
“The ladder of success is best climbed by stepping on the rungs of opportunity.” ‐ Ayn Rand

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment