मानसिक आरोग्य : लालजीराम शुक्ल द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – स्वास्थ्य | Mansik Arogya : by Lalji Ram Shukla Hindi PDF Book – Health (Svasthya)

Book Nameमानसिक आरोग्य / Mansik Arogya
Author
Category, , ,
Language
Pages 430
Quality Good
Size 19.2 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : “संसार का कोई विरला हो व्यक्ति ऐसा दे जिसे किसी न किप्ती प्रकार का सानसिक रोग न हो | आधुनिक सभ्यता की एक विशेषता यह है कि मनुष्य के मानसिक रोगों को संख्या बढ़ गई है। जैसे-जैसे इस सभ्यता का प्रसार द्वोता है वैसे-बेसे मानसिक रोगों को संख्या बढ़ती जाती है। बढ़ते हुए मानसिक रोगों के रोकने का वैज्ञानिक उपाय न खोजा गया तो मनृष्य का लोकिक जीवन असह्व हो जायगा…….

Pustak Ka Vivaran : “Sansar ka koi Virala ho vyakti aisa dai jise kisi na kiptee prakar ka sanasik rog na ho. Aadhunik sabhyata kee ek visheshata yah hai ki manushy ke manasik rogon ko sankhya badh gayi hai. Jaise-jaise is sabhyata ka prasar dvota hai vaise-Vaise manasik rogon ko sankhya badhati jati hai. Badhate huye Mansik rogon ke rokane ka vaigyanik upay na khoja gaya to manrshy ka laukik jeevan asahy ho jayega………

Description about eBook : “A rare person in the world is someone who does not have any kind of sickle disease.” A feature of modern civilization is that the number of mental diseases of humans has increased. As the spread of this civilization increases, the number of mental illnesses increases. The scientific life of a human being will become unbearable if a scientific solution to prevent increasing mental diseases is not discovered ……

“किसी व्यक्ति का व्यक्तित्व उसके विचारों का समूह होता है; जो वह सोचता है, वैसा वह बन जाता है।” ‐ महात्मा गांधी
“A man is but the product of his thoughts; what he thinks, he becomes.” ‐ Mahatma Gandhi

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment