मिलिन्द-प्रश्न : भिक्षु जगदीश काश्यप द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Milind Prashn : by Bhikshu Jagdish Kashyap Hindi PDF Book

मिलिन्द-प्रश्न : भिक्षु जगदीश काश्यप द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Milind Prashn : by Bhikshu Jagdish Kashyap Hindi PDF Book
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name मिलिन्द-प्रश्न / Milind Prashn
Author
Category,
Pages 605
Quality Good
Size 14 MB
Download Status Available

मिलिन्द-प्रश्न का संछिप्त विवरण : बौद्ध साहित्य में “मिल्रिन्द प्रश्न” का स्थान बहुत ऊँचा है | यद्यपि यह त्रिपिटक-ग्रन्थों में से एक नहीं है, तो भी इसकी प्रमाणिकता उनसे किसी प्रकार कम नहीं मानी जाती | यहाँ तक कि अर्थबथाचार्य वृद्घघोष ने भी कई बातों को पुष्ट करने के लिए जगह-जगह पर मिलिन्द-प्रश्न का प्रमाण दिया है। बौद्ध जनता इस ग्रन्थ को अत्यन्त श्रद्धा की इष्टि से देखती है…….

Milind Prashn PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Bauddh sahity mein “Milind Prashn” ka sthan bahut ooncha hai. Yadyapi yah tripitak-granthon mein se ek nahin hai, to bhi isaki pramanikata unase kisi prakar kam nahin mani jati. Yahan tak ki arthakathachary vrddhaghosh ne bhi kai baton ko pusht karane ke lie jagah-jagah par milind-prashn ka pramaan diya hai. Bauddh janata is granth ko atyant shraddha ki drshti se dekhati hai………….
Short Description of Milind Prashn PDF Book : The place of “Milind Question” in Buddhist literature is very high. Although it is not one of the Triptic texts, its credentials are not considered to be less than theirs. Even the economist Vaishnavosh has given proof of the Milind-Question at the place to reinforce many things. The great public sees this text with great respect…………..
“यदि आप में आत्मविश्वास नहीं है तो आप हमेशा न जीतने का बहाना खोज लेंगे।” ‐ कार्ल लेविस
“If you don’t have confidence, you’ll always find a way not to win.” ‐ Carl Lewis

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment