हिंदी संस्कृत मराठी मन्त्र विशेष

नहले पर दहला / Nahale Par Dahala

नहले पर दहला : समरसैट माम द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - उपन्यास | Nahale Par Dahala : by Somerset Maugham Hindi PDF Book - Novel (Upanyas)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name नहले पर दहला / Nahale Par Dahala
Author
Category, , , ,
Language
Pages 271
Quality Good
Size 14 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : उसके मामा ने उसके लिये जो नौकरी तजवीज़ की थी उसमें तो उसे कोई विशेष रुचि न थी परन्तु मामा के विचार ने उसको बड़ा प्रभावित किया था। वह इस निष्कर्ष पर तो पहुँच ही चुका था कि उसके मामा ने अपनी व्यावहारिक बुद्धि से बहिन की समस्त शंकाओं को निर्मल कर उसे निरुत्तर कर दिया……….

Pustak Ka Vivaran : Usake Mama ne usake liye jo Naukari tajaveez kee thee usamen to use koi vishesh ruchi na thee parantu mama ke vichar ne usako bada prabhavit kiya tha. Vah is nishkarsh par to pahunch hi chuka tha ki usake mama ne apani vyavaharik buddhi se bahin ki samast shankaon ko nirmal kar use Niruttar kar diya hai………

Description about eBook : He did not have any special interest in the job his maternal uncle had done for him, but the idea of ​​maternal uncle affected him greatly. He had already reached the conclusion that his maternal uncle, by his practical wisdom, has cleared all the doubts of the sister and rendered him speechless ……

“काम को सही करने से अधिक महत्त्वपूर्ण यह है कि सही काम ही किये जावें।” ‐ पीटर ड्रकर
“It is more important to do right thing than to do things right.” ‐ Peter Drucker

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Leave a Comment