नई कला : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कहानी | Nai Kala : Hindi PDF Book – Story ( Kahani )

नई कला : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - कहानी | Nai Kala : Hindi PDF Book - Story ( Kahani )
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name नई कला / Nai Kala
Author
Category,
Language
Pages 190
Quality Good
Size 460 MB
Download Status Available

नई कला पुस्तक का कुछ अंश : मेरा एक बेकार-सा साथी था साथी ‘कामरेड’ के अर्थ में | उस पर मेरे सतरह रूपये बाकी थे | फिर भी जब वह कभी मुझे कहीं राहचलते मिलता तो मैं आँख बचाकर, कतरा कर निकल जाने की भरसक चेष्टा करता था | साधारण कर्जदार जिससे कर्ज लिये रहता है, उसके सामने पड़ने से बचना चाहता है | पर, वह कामरेड-टाइप का हुआ तो स्थिति उलटी हो जाती है…….

Nai Kala PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : Mera ek bekar-sa sathi tha sathi kamared ke arth mein. Us par mere satarah rupaye baki the. Phir bhi jab vah kabhi mujhe kahin rahchalte milta to main aankh bachakar, katra kar nikal jane ki bharasak cheshta karta tha. Sadharan karjadar jisse karj liye rahta hai, uske samane padane se bachana chahta hai. Par, vah kamared-taip ka hua to sthiti ulti ho jati hai…………
Short Passage of Nai Kala Hindi PDF Book : I had a worthless partner in the sense of partner ‘comrades’. There were my seventeen rupees on him. Even then when he got to stay somewhere, I used to make every effort to save my eyes and go out. The ordinary borrower wants to avoid falling in front of the person who is lending. But, if he is a comrade-type, the situation vomits………….
“मैं कठिनाईयों से बचने की प्रार्थना नहीं करता हूं, बल्कि मैं उन्हें सहन करने के लिए पर्याप्त सामर्थ्य प्रदान करने की प्रार्थना करता हूं।”
“I do not pray for a lighter load, but for a stronger back.” ‐ Philip Brookes

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment