निवेदन के आंसू : श्री शंभूदयाल सक्सेना द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – उपन्यास | Nivedan Ke Aansu : by Shri Shambhudayal Saxena Hindi PDF Book – Novel (Upanyas)

Book Nameनिवेदन के आंसू / Nivedan Ke Aansu
Author
Category, , , , ,
Language
Pages 144
Quality Good
Size 669 KB
Download Status Available

निवेदन के आंसू का संछिप्त विवरण : अभिलाषाओं की सेज पर तुम्हारा सोभाग्य नहीं जागा। तुमसे जीवन पर्यन्त इस शिथिल कवरी का भार मान ढोया है। हृदय में साधो का संसार लिए छुम समन-ममारोहो मे सिसकती खडी रही हो। किसी ने तुम्हारी साज-सज्जा का समादर नही किया। तुम्हारे अधरों पर मधु सूक्षकर स्याह पड गया, तुम्हारे रेशमी केशो की स्निग्धता रूक्षता में परिणत हो गई………..

Nivedan Ke Aansu PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Abhilashaon ki sej par tumhara sobhagy nahin jaaga. Tumase jeevan paryant is shithil kavari ka bhar man dhoya hai. Hriday mein sadho ka sansar liye chhum saman-mamaroho me sisakati khadi rahi ho. Kisi ne tumhari saj-sajja ka samadar nahi kiya. Tumhare adharon par madhu sookshakar syah pad gaya, tumhare reshamee kesho ki snigdhata rookshata mein parinat ho gayi………..
hort Description of Nivedan Ke Aansu PDF Book : Your luck did not wake up on the bed of desires. You have carried the weight of this loose cover for life. For the world of sadhus in your heart, you may have been standing sobbing in silence. No one respected your decor. The honey dried up on your lips, the lilacness of your silky hair turned into dryness…..
“नया जीवन जीने के लिए व्यापक बुद्धि आवश्यक है, एक ही तरह का जीवन जीने के लिए यादें ही काफी हैं|” ‐ सद्गुरु
“Extensive intelligence is necessary to live a new life, memories are enough to live the same kind of life.” ‐ Sadguru

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment