पैंतीस बोल विवरण : मुनि श्री कान्तिसागर जी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – साहित्य | Paintis Bol Vivran : by Muni Shri Kantisagar Ji Hindi PDF Book – Literature (Sahitya)

पैंतीस बोल विवरण : मुनि श्री कान्तिसागर जी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - साहित्य | Paintis Bol Vivran : by Muni Shri Kantisagar Ji Hindi PDF Book - Literature (Sahitya)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name पैंतीस बोल विवरण / Paintis Bol Vivran
Author
Category, ,
Language
Pages 118
Quality Good
Size 1 MB
Download Status Available

पैंतीस बोल विवरण का संछिप्त विवरण : आहार शरीर आदि वर्गणा के परमाणुओं को शरीर इन्द्रिय आदि रूप में परिमाने की शक्ति की पूर्णता को पर्याप्त कहते है। आहारिक वर्णता को ग्रहण कर उसका रस बनाने की जो शक्ति है उसको आहार पर्याप्ति कहते है। रस के पश्चात्‌ खून, मास, भेद, मज्जा अस्थि और वीर्य इस प्रकार सात धातुओं को बनाकर शरीर को बनाने…..

Paintis Bol Vivran PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Aahar Shareer aadi vargana ke Paramanuyon ko shareer indriy aadi roop mein parimane ki shakti ki purnata ko paryapt kahate hai. Aaharik varnata ko grahan kar usaka ras banane ki jo shakti hai usako Aahar paryapti kahate hai. Ras ke pashchat khoon, mas, bhed, majja asthi aur veery is prakar sat dhatuon ko banakar shareer ko banane………
Short Description of Paintis Bol Vivran PDF Book : The fullness of the power to transform the atoms of the body, the body etc., into the body sense, etc. is called sufficient. The power to absorb the dietary pigment and make its juice is called dietary sufficiency. After juice, blood, mass, secretion, marrow bone and semen are thus made of seven metals to make the body …….
“मीठे बोल संक्षिप्त और बोलने में आसान हो सकते हैं, लेकिन उनकी गूंज सचमुच अनंत होती है।” ‐ मां टेरेसा
“Kind words can be short and easy to speak, but their echoes are truly endless.” ‐ Mother Teresa

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment