पेशवा की कञ्चनी : श्री उमाशंकर द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – उपन्यास | Peshva Ki Kanchani : by Shri Umashankar Hindi PDF Book – Novel (Upanyas)

Book Nameपेशवा की कञ्चनी / Peshva Ki Kanchani
Author
Category, , , ,
Language
Pages 165
Quality Good
Size 6 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : उसने फिर चिढ़ाया । “मर्दों की इसी कमज़ोरी ने तो उनका सत्यानाश कर दिया है | अपने को औरतों से दुर्बल समझते हुये भी ऐसा कहने में पता नहीं कांपते क्‍यों हैं? सच कहने में शर्माना क्या? ! उसके सुर्ख गालों पर लम्बे-लम्बे कजरारे नेत्रों ने नाच कर अहमद की ओर कनखियों से देखा | वह सामने की ओर देख रहा था। उसने आगे खोदा………

Pustak Ka Vivaran : Usane phir chidhaya . “Mardon ki isi kamzori ne to unaka satyanash kar diya hai. Apane ko auraton se durbal samajhate huye bhi aisa kahane mein pata nahin kampate k‍yon hain? Sach kahane mein sharmana k‍ya? Usake surkh galon par lambe-lambe kajrare netron ne nach kar ahamad ki or kankhiyon se dekha. Vah samane ki or dekh raha tha. Usane aage khoda………..

Description about eBook : He teased again. “This weakness of men has destroyed them. Considering ourselves as weaker than women, why are you not shaken to say this? What is shy to tell the truth? ! Long, bright eyes danced on his ruddy cheeks and looked at Ahmed with earrings. He was looking at the front. He dug further ………..

“ऐसा व्यक्ति जो एक घंटे का समय बरबाद करता है, उसने जीवन के मूल्य को समझा ही नहीं है।” ‐ चार्ल्स डारविन
“A man who dares to waste one hour of time has not discovered the value of life.” ‐ Charles Darwin

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment