पुराना नियम : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कहानी | Purana Niyam : Hindi PDF Book – Story (Kahani)

पुराना नियम : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - कहानी | Purana Niyam : Hindi PDF Book - Story (Kahani)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name पुराना नियम / Purana Niyam
Author
Category, , , ,
Language
Pages 1726
Quality Good
Size 84 MB
Download Status Available

पुराना नियम राज्य पुस्तक का कुछ अंश : हम मनुष्य को अपने स्वरूप के अनुसार अपनी समानता में बनाए, और वे समुद्र की मछलियो, और आकाश के पक्षियों, और घरेलू पशुओ, और सारी पृथ्वी पर, और सब रेंगने वाले जन्तुओ पर जो पृथ्वी पर रेगते हे, अधिकार रखे। २७ तब परमेदवर ने मनुष्य को अपने स्वरूप के अनुसार उत्पन्न किया, अपने ही स्वरूप के अनुसार परमेश्वर ने उसको उत्पन्न किया……..

Purana Niyam PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : Ham Manushy ko Apane svaroop ke Anusar Apani samanata mein banaye, aur ve samudra ki Machhaliyo, aur Aakash ke pakshiyon, aur Gharelu pashuo, aur sari prthvi par, aur sab Rengane vale jantuo par jo prthvi par Regate he, Adhikar rakhe. 27 tab paramesvar ne manushy ko apane svaroop ke anusar utpann kiya, apane hi svaroop ke anusar parameshvar ne usako utpann kiya………..
Short Passage of Purana Niyam Hindi PDF Book : We shall make man in our likeness according to our image, and they shall have authority over the fishes of the sea, and the birds of the sky, and the domestic animals, and all the earth, and all the creeping creatures that rule the earth. 24 Then God created man according to his form, God created him according to his own nature……….
“परस्पर आदान-प्रदान के बिना समाज में जीवन का निर्वाह संभव नहीं है।” ‐ सेमुअल जॉन्सन
“Life cannot subsist in a society but by reciprocal concessions.” ‐ Samuel Johnson

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment