पुष्करिणी : श्री भगवतीप्रसाद वाजपेयी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कहानी | Pushkarini : by Shri Bhagwati Prasad Vajpeyi Hindi PDF Book – Story (Kahani)

पुष्करिणी : श्री भगवतीप्रसाद वाजपेयी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - कहानी | Pushkarini : by Shri Bhagwati Prasad Vajpeyi Hindi PDF Book - Story (Kahani)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name पुष्करिणी / Pushkarini
Author
Category, , ,
Language
Pages 290
Quality Good
Size 7.3 MB
Download Status Available

पुष्करिणी का संछिप्त विवरण : खेत में काम करने गया होगा। किसी के कोई होगा ही नहीं | और काम करते-करते उनका अगर उसकी सुधि आ ही जाती है और काम की गति में क्षणिक मन्दता उत्पन्न हो ही उठती है, तो वह भी आज की हमारी इस सामाजिक व्यवस्था को सहन नहीं है। और तारीफ यह है कि हम समझ लेते हैं कि हम बड़े ज्ञानी हैं। हम यही देखकर सन्तोष कर लेते हैं कि……..

Pushkarini PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Khet mein kam karane gaya hoga. Kisi ke koi hoga hi nahin. Aur kam karate-karate unaka agar uski sudhi aa hi jati hai aur kam ki gati mein kshanik mandata utpann ho hi uthati hai, to vah bhi aaj ki hamari is samajik vyavastha ko sahan nahin hai. Aur Tareeph yah hai ki ham samajh lete hain ki ham bade gyani hain. Ham yahi dekhkar santosh kar lete hain ki……..
Short Description of Pushkarini PDF Book : Must have gone to work in the farm. Nobody will have anyone. And if he gets his attention while working and a momentary dullness arises in the pace of work, then he is not tolerated in this social system of our day. And the compliment is that we understand that we are very knowledgeable. Seeing this, we are satisfied that …….
“किसी भी नींव का सबसे मजबूत पत्थर सबसे निचला ही होता है।” ‐ खलील ज़िब्रान (१८८३-१९३१), सीरियाई कवि
“The most solid stone in the structure is the lowest one in the foundation.” ‐ Kahlil Gibran (1883-1931),Syrian poet

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment