कुरान – सार : विनोबा द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – धार्मिक | Quran – Sar : by Vinoba Hindi PDF Book – Religious (Dharmik)

कुरान - सार : विनोबा द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – धार्मिक | Quran - Sar : by Vinoba Hindi PDF Book – Religious (Dharmik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name कुरान – सार / Quran – Sar
Author
Category, ,
Language
Pages 410
Quality Good
Size 4 MB
Download Status Available

कुरान – सार का संछिप्त विवरण : जहाँ ठहरना आवश्यक हो वहां के शब्द का अंतिम अक्षर स्वरान्त हो तो भी उसे हलन्त पढ़ा जाय। यह अंतिम अक्षर हो तो उसे न पढ़कर उसके पूर्व के अक्षर को वह स्वय॑युक्त हो तो भी हलन्त पढ़ा जाय। त का हलन्त ह होता है। त और त एक ही वर्ण के दो रूप है। शब्द का अन्तिम अक्षर अकारान्त हो तो उसका उच्चारण……..

Quran – Sar PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Jahan Thaharana Aavashyak ho vahan ke shabd ka Antim akshar svarant ho to bhi use halant padha jay. Yah Antim Akshar ho to use na padhakar usake poorv ke Akshar ko vah svayanyukt ho to bhi halant padha jay. Ta ka halant ha hota hai. Ta aur ta ek hee varn ke do Roop hai. Shabd ka Antim Akshar Akarant ho to usaka uchcharan……….
Short Description of Quran – Sar PDF Book : If the last letter of the word is necessary to stay there, it should be read as halant. If this is the last letter, do not read it and read the previous letter even if it is self-contained. The root of the root is T and T are two forms of the same letter. If the last letter of the word is nonchalant, its pronunciation ………..
“जिनसे प्रेम करते हैं, उन्हें जाने दें, वे यदि लौट आते हैं तो वे सदा के लिए आपके हैं। और अगर नहीं लौटते हैं तो वे कभी आपके थे ही नहीं।” ‐ खलील ज़िब्रान (१८८३-१९३१), सीरियाई कवि
“If you love somebody, let them go, for if they return, they were always yours. And if they don’t, they never were.” ‐ Kahlil Gibran (1883-1931), Syrian Poet

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment