साहित्यकों से : विनोबा भावे द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Sahitya Ko Se : by Vinoba Bhave Hindi PDF Book

साहित्यकों से : विनोबा भावे द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Sahitya Ko Se : by Vinoba Bhave Hindi PDF Book
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name साहित्यकों से / Sahitya Ko Se
Author
Category,
Pages 104
Quality Good
Size 2 MB
Download Status Available

साहित्यकों से पुस्तक का कुछ अंश : आचार्य संत थी विनोबा भावे ने को सर्वोदिय यात्रा आरम्भ की है, वह उसी आहिंसक क्रांति का स्वाभाविक प्रसार है , जिसका सूबपात गांधीजी ने किया था, तथा जिसके द्वारा हमारा देश राजनैतिक स्वतन्त्रता प्राप्त करने मे सफल हुआ। किन्तु नूतन समाज की रचना किस प्रकार हो……

Sahitya Ko Se PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : Aachaarya sant thi vinoba bhaave ne ko sarvoday yaatra aarambh ki hai, vah usi aahinsak kraanti ka svaabhaavik prasaar hai , jisaka soobapaat gaandhiji ne kiya tha, tatha jisake dvaara hamaara desh raajanaitik svatantrata praapt karane me saphal hua. kintu nootan samaaj kee rachana kis prakaar ho………….
Short Passage of Sahitya Ko Se Hindi PDF Book : Acharya saint Vinoba Bhave has started the Sarvodaya yatra; it is the natural propaganda of the same violent revolution, which Gandhiji did, and by which our country succeeded in achieving political independence. But how is the creation of a new society…………..
“बंदरगाह में खड़ा जलयान सुरक्षित होता है। जलयान वहां खड़े रहने के लिए नहीं बने होते हैं।” ‐ थामस एक्किनास
“A ship in harbor is safe . . . but that is not what ships are for.” ‐ Thomas Aquinas

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment