सप्त किरण : डॉ. रामकुमार वर्मा द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – नाटक | Sapt Kiran : by Dr. Ramkumar Verma Hindi PDF Book – Drama (Natak)

Book Nameसप्त किरण / Sapt Kiran
Author
Category, , , , , ,
Language
Pages 172
Quality Good
Size 10 MB
Download Status Available

सप्त किरण का संछिप्त विवरण : अब मुझे साहित्य करना भी नहीं है । जिसकी साहित्य सेवा का संसार के सामने कुछ भी मूल्य न हो। उसकी चेष्टा उस चीटीं की तरह है जो अपने जीवन में पृथ्वी की परिधि नापना चाहती है। मैं अपने सारे ग्रन्थ जलाऊंगा। कागज में लिपटे हुए मेरे ज्ञान के शव मेरी कुटिया की तरह…

Sapt Kiran PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Ab mujhe sahity-sadhana karani bhi nahin hai. Jisaki sahity seva ka sansar ke samane kuchh bhee mooly na ho, usakee cheshta us cheeteen kee tarah hai jo apane jeevan mein prthvee kee paridhi napana chahati hai. Mai apane sare granth jalaoonga. kagaj mein lipate hue mere gyan ke shav jaise meri kutee inake………..
Short Description of Sapt Kiran PDF Book : Now I do not even have to do literature. Whose literature is not worth anything in front of the world, its gesture is like a chit that wants to measure the circumference of the earth in its life. May burn my entire book. My body wrapped in paper like my cottage………..
“हे भगवान, मुझे उन बातों को स्वीकार करने का धैर्य प्रदान करो जिन्हें मैं बदल नहीं सकता हूं; जिन चीजों को मैं बदल सकता हूं उनको बदलने का साहस दो; तथा इन दोनों में अंतर करने के लिए बुद्धि प्रदान करो।” ‐ डा. रीनहोल्ड नीबुहर
“God, grant me the serenity to accept things that I cannot change; The courage to change the things I can; And the wisdom to know the difference.” ‐ Dr. Reinhold Niebuhr

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

1 thought on “सप्त किरण : डॉ. रामकुमार वर्मा द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – नाटक | Sapt Kiran : by Dr. Ramkumar Verma Hindi PDF Book – Drama (Natak)”

Leave a Comment