समाज की वेदी पर : श्री अनूप द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – उपन्यास | Samaj Ki Vedi Par : by Shri Anoop Hindi PDF Book – Novel (Upanyas)

Book Nameसमाज की वेदी पर / Samaj Ki Vedi Par
Author
Category, , , , ,
Language
Pages 179
Quality Good
Size 32 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : उपन्यास लिखने के तीन ढंग प्रचलित हैं – एक प्रथम पुरषात्मक, दूसरा उत्तम पुरुषात्मक और तीसरा पत्नात्मक | पहले में उपन्यासकार एक आलोचक की भांति पात्रों के चरित्र का विश्लेषण भी करता रहता है और कथा-वस्तु की धारा को भी प्रवाहित रखता है। दूसरे प्रकार के उपन्यासों में लेखक स्वयं………

Pustak Ka Vivaran : Upanyas likhane ke teen dhang prachalit hain – Ek Pratham Purashatmak, doosara uttam Purushatmak aur teesra Patnatmak. Pahle mein Upanyasakar ek Aalochak ki bhanti Patron ke charitra ka vishleshan bhi karta rahata hai aur katha-vastu ki dhara ko bhi Pravahit rakhata hai. Doosare prakar ke upanyason mein lekhak svayan……….

Description about eBook : There are three methods of writing a novel – one is first masculine, the second best masculine and the third one is descriptive. In the first, the novelist, like a critic, continues to analyze the characters of the characters and also keeps the current of the plot-content flowing. In other types of novels the author himself…………

“खुश रहना और संतुष्ट रहना सौन्दर्य बढ़ाने और युवा बने रहने के श्रेष्ठ तरीके हैं।” – चार्ल्स डिकिन्स, उपन्यासकार (1812-1870)
“Cheerfulness and contentment are great beautifiers and are famous preservers of youthful looks.” – Charles Dickens, novelist (1812-1870)

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment