समाज-विज्ञान : चंद्रराज भंडारी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Samaj Vigyan : by Chandraraj Bhandari Hindi PDF Book – Social (Samajik)

समाज-विज्ञान : चंद्रराज भंडारी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - सामाजिक | Samaj Vigyan : by Chandraraj Bhandari Hindi PDF Book - Social (Samajik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name समाज-विज्ञान / Samaj Vigyan
Author,
Category, ,
Language
Pages 577
Quality Good
Size 67 MB
Download Status Available

समाज-विज्ञान पुस्तक का कुछ अंश : मैं एक ऐसा समाज देख रहा हूँ, जिसमे दासत्व का अस्तित्व नहीं है, जिसमे प्रत्येक मनुष्य स्वाधीनता और आनंद के साथ विचरण कर रहा है, जहाँ विज्ञान के द्वारा प्राकृतिक शक्तियां बांध ली गई है | ज्योति और विधुत वायु और तरंग, सर्दी, और गर्मी एवं पृथ्वी तथा वायुमंडल की कमी सूक्ष्म और गुप्त शक्तियां मनुष्य जाति की आज्ञाधारक दासियां बन गई…….

Samaj Vigyan PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : Main ek aisa samaj dekh raha hun, jisme dasatv ka astitv nahin hai, jisme pratyek manushy swadhinta aur aanand ke sath vicharan kar raha hai, jahan vigyan ke dwara prakrtik shaktiyan bandh li gai hai. Jyoti aur vidhut vayu aur tarang, sardi, aur garmi evan prthvi tatha vayumandal ki kami sukshm aur gupt shaktiyan manushy jati ki aagyadharak dasiyan ban gai…………
Short Passage of Samaj Vigyan Hindi PDF Book : I am seeing a society in which slavery does not exist, in which every human is dealing with independence and happiness, where natural powers have been built by science. Jyoti and Vidhu Vayu and Ripple, Winter, and Summer and the lack of Earth and Atmosphere, the subtle and secret powers became the obedient slaves of mankind…………
“छोटी बुराई को अपने पास न आने दें क्योंकि अन्य बड़ी बुराईयां सुनिश्चित रूप से इसके पीछे-पीछे आती हैं।” ‐ बाल्टासार ग्रेसिय
“Never open the door to a lesser evil, for other and greater ones invariably follow it.” ‐ Baltasar Gracian

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment