हिंदी संस्कृत मराठी मन्त्र विशेष

वनौषधि – चन्द्रोदय भाग-6 / Vanaushadhi Chandrodaya Bhag-6

वनौषधि – चन्द्रोदय भाग-6 : चन्द्रराज भण्डारी द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Vanaushadhi Chandrodaya Bhag-6 : by Chandraraj Bhandari Hindi PDF Book
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name वनौषधि – चन्द्रोदय भाग-6 / Vanaushadhi Chandrodaya Bhag-6
Author
Category, , ,
Pages 216
Quality Good
Size 9 MB
Download Status Available

वनौषधि – चन्द्रोदय भाग-6 का संछिप्त विवरण : यह एक बड़ी जाति का वृक्ष होता है । इसके सभी हिस्से – चिकने और चमकीले होते हैं । इसके पत्ते चौडे और विषम आकृति के होते है। इसके फूल छोटे और पीले रंग के होते हैं। यह शीशम की जाति का ही एक वृक्ष होता है। इसका मूल उत्पत्ति स्थान चीन और जापान है। भारतवर्ष में भी यह पैदा किया जाता है……..

Vanaushadhi Chandrodaya Bhag-6 PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Yah ek badi jati ka vrksh hota hai. Isake sabhi hisse – chikane aur chamakile hote hain. Isake patte chaude aur visham akrti ke hote hai. Isake phool chhote aur pile rang ke hote hain. Yah shisham ki jati ka hi ek vrksh hota hai. Isaka mool utpatti sthan cheen aur japan hai. Bharatavarsh mein bhi yah paida kiya jata hai………….
Short Description of Vanaushadhi Chandrodaya Bhag-6 PDF Book : It is a large caste tree. All parts of it – are smooth and bright. Its leaves are of a wide and contrasting shape. Its flowers are small and yellow. This is a tree of Sheesham’s race. Its origins place is China and Japan. It is also made in India…………..
“मित्रता और लेनदेन – जैसे कि तेल और पानी।” मारियो प्यूज़ो
“Friendship and money: oil and water.” Mario Puzo

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Leave a Comment