समग्र ग्राम – सेवा की ओर : धीरेन्द्र मजूमदार द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – साहित्य | Samgra Gram – Seva Ki Aor : by Dheerendra Majumdar Hindi PDF Book – Literature (Sahitya)

Book Nameसमग्र ग्राम – सेवा की ओर / Samgra Gram – Seva Ki Aor
Author
Category, , , , ,
Language
Pages 362
Quality Good
Size 13 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : यह मैंने थोड़े में आज की स्थिति का सिहांवलोकन किया | इस इतिहास को ठीक बनाने के लिए बापू ने हमे किस किस काम का इशारा किया, पर अब हमे नजर डालनी चाइए | तुम तो उन दिनों सेवाग्राम की जगह-जमीन, बच्चा कच्चा अगोरे मां बनी बाहर ही बैठी रही | इसलिए देश और दुनिया की सारी हलचलों को प्रत्यक्ष देखती रही………

Pustak Ka Vivaran : Yah Mainne thode mein aaj kee sthiti ka sihanvalokan kiya. Is itihas ko theek banane ke liye bapoo ne hame kis kis kam ka ishara kiya, par ab hame najar dalani chaiye. Tum to un dinon sevagram ki jagah-jameen, bachcha kachcha agore man bani bahar hee baithi rahi. Isaliye desh aur duniya kee sari halachalon ko pratyaksh dekhatee rahi………….

Description about eBook : I briefly reviewed today’s situation. To correct this history, Bapu indicated what work we had, but now let us look at it. You were sitting outside of the Sevagram land, and the child became the mother of the raw agora. Therefore, seeing the whole movements of the country and the world…………..

“लोगों का अपनी शक्ति खो देने का सबसे आम तरीका है उनकी यह सोच कि उनके पास शक्ति है ही नहीं।” ‐ ऐलिस वॉकर
“The most common way people give up their power is by thinking they don’t have any.” ‐ Alice Walker

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment