समीक्षायण : प्रो० कन्हैयालाल ‘सहल’ द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – साहित्य | Samikshayan : by Prof. Kanhaiyalal ‘Sahal’ Hindi PDF Book – Literature (Sahitya)

समीक्षायण : प्रो० कन्हैयालाल 'सहल' द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - साहित्य | Samikshayan : by Prof. Kanhaiyalal 'Sahal' Hindi PDF Book - Literature (Sahitya)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name समीक्षायण / Samikshayan
Author
Category, ,
Language
Pages 156
Quality Good
Size 11 MB
Download Status Available

समीक्षायण का संछिप्त विवरण : राष्ट्रीय कवियों में बाबू मैथिलीशरण जी गुप्त का महत्त्वपूर्ण स्थान है। सामयिक परिस्थितियों में परिवर्तन के साथ-साथ गुप्त जी की राष्ट्रीय भावनाओं में भी परिवर्तन होता रहा है । राष्ट्रीयता के विचार-पक्त की दृष्टि से दोनों गुप्त बन्धुओं पर गाँधीवाद का प्रभाव पड़ा है। सामयिक परिस्थितियों से प्रभावित होकर भी सियारामशरण गुप्त ने ‘नोआखाली में! तथा “जय हिन्द” नाम की……..

Samikshayan PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Rashtriy kaviyon mein babu Maithileesharan ji gupt ka Mahattvapurn sthan hai. Samayik paristhitiyon mein parivartan ke sath-sath gupt jee ki Rashtriya bhavanayon mein bhi parivartan hota raha hai . Rashtriyata ke vichar-pakt ki drshti se donon gupt bandhuon par Gandhivad ka prabhav pada hai. Samayik paristhitiyon se prabhavit hokar bhi Siyaramasharan gupt ne Noakhali mein! Tatha “Jai Hind” nam ki……..
Short Description of Samikshayan PDF Book : Babu Maithilesharan Ji Gupt has an important place among the national poets. Along with the change in current circumstances, the national sentiments of Gupt ji have also changed. From the point of view of nationalism, Gandhism has had an impact on both the secret brothers. Despite being influenced by the current circumstances, Siyaramsharan Gupt in ‘Noakhali! And named “Jai Hind” ……..
“हम जैसा सोचते हैं, वैसा ही बन जाते हैं।” – बुद्ध
“What we think, we become.” – Buddha

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment