सम वेद : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – वेद | Sam Ved : Hindi PDF Book – Ved

सम वेद : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - वेद | Sam Ved : Hindi PDF Book - Ved
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name सम वेद / Sam Ved
Category, , ,
Language
Pages 328
Quality Good
Size 15.8 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : संत तुलसीदास ने इसीलिए श्रद्धा एवं विश्वास के रूप में भवानी-शंकर की वंदना करते हुए कहा है कि इनके योग के बिना सिद्ध पुरुष भी अपने अंतःकरण में विराजमान ईश तत्त्व का साक्षात्कार नहीं कर पाते | ज्ञान की परिपक्ता श्रद्धा है | ज्ञान और भावना के संयोग से ईश से साक्षात्कार संभव है, यह तथ्य निर्विवाद है……..

Pustak Ka Vivaran : Sant Tulsidas ne isilie shraddha evan vishvas ke rup mein bhavani-Shankar ki vandna karte hue kaha hai ki inke yog ke bina siddh purush bhi apne ant:karan mein virajman ish tattv ka sakshatkar nahin kar pate. Gyan ki paripakvata shraddha hai. Gyan aur bhawna ke sanyog se ish se sakshatkaar sambhav hai, yah tathy nirvivad hai…………

Description about eBook : Saint Tulsidas, therefore, praising Bhavani-Shankar in the form of devotion and faith, has said that without their yoga, the perfect men can not even be able to interview God’s element in their heart. The maturity of wisdom is reverence. Interview with Ish is possible by coincidence of knowledge and emotion, this fact is indisputable……………..

“गलतियां खोज का स्रोत होती हैं।” – जेम्स जोयस
“Mistakes are the portals of discovery.” – James Joyce

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment