संजीवनी विद्या : बाबू रामचन्द्र वर्मा द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Sanjivani Vidya : by Babu Ramchandra Verma Hindi PDF Book

संजीवनी विद्या : बाबू रामचन्द्र वर्मा द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Sanjivani Vidya : by Babu Ramchandra Verma Hindi PDF Book
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name संजीवनी विद्या / Sanjivani Vidya
Author
Category, ,
Pages 132
Quality Good
Size 03.93 MB
Download Status Available

संजीवनी विद्या पीडीऍफ़ पुस्तक का संछिप्त विवरण : मनुष्य के शरीर में जो वीर्य उत्पन्न होता है, उसके केवल दो ही प्रकार के उपयोग है। एक तो आत्म-संजीवन और दूसरा प्रजोत्पादन | जिस वीर्य का प्रजोत्पादन मे उपयोग होता है, यदि उस वीर्यका आत्म-संजीवन के लिए उपयोग किया जाय तो शरीर बलबान होता है, मन और बुद्धिकी शक्ति बढ़ती है, मनुष्यको शील दैवी हो जाता है और संसार मे आदर्श स्त्री तथा पुरुष देखने में आते है………

Sanjivani Vidya PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Manushy ke sharir mein jo viry utpann hota hai, usake keval do hi prakar ke upayog hai. Ek to atm-sanjivan aur doosara prajotpadan. Jis viry ka prajotpadan me upayog hota hai, yadi us viryaka atm-sanjivan ke lie upayog kiya jay to sharir balavan hota hai, man aur buddhiki shakti badhati hai, manushyako shil devi ho jata hai aur sansar me adarsh stre tatha purush dekhane mein ate hai………..

Short Description of Sanjivani Vidya Hindi PDF Book : The semen that is produced in the body of a human being has only two types of uses. One is self-resilience and second reproduction. If the semen is used in the reproduction, if the semen is used for self-sustenance then the body is strong, the mind and the intellectual power increase, the human being becomes divine and becomes the ideal woman and man in the world……………..

 

“मन जो स्नेह संजो सकता है उन में से सबसे पवित्र है किसी नौ वर्षीय का निश्छल प्रेम।” ‐ होलमैन डे
“The purest affection the heart can hold is the honest love of a nine-year-old.” ‐ Holman Day

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment