संत – उदबोधन : स्वामी श्रीशरणानन्द जी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – आध्यात्मिक | Sant – Udbodhan : by Swami Sharananand Ji Hindi PDF Book – Spiritual (Adhyatmik)

संत - उदबोधन : स्वामी श्रीशरणानन्द जी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - आध्यात्मिक | Sant - Udbodhan : by Swami Sharananand Ji Hindi PDF Book - Spiritual (Adhyatmik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name संत – उदबोधन / Sant – Udbodhan
Author
Category, , , ,
Language
Pages 211
Quality Good
Size 13.7 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : यह जीवन का सत्य है कि जो कभी अलग होगा वह अब अलग है और जो कभी मिलेगा वह अब भी मिला हुआ है। वस्तु, व्यक्ति, परिस्थिति और अवस्था सदेव हमसे अलग हैं और प्रभु नित्य प्राप्त है। वह कभी अलग है नहीं, होगा नहीं, हो सकता नहीं। क्यों? उसी की हम सब अभिव्यक्ति हैं। हम से वह दूर नहीं है, केवल उससे विमुखता हो गई है। विमुखता की…………

Pustak Ka Vivaran : Yah Jeevan ka Saty hai ki jo kabhi Alag hoga vah ab alag hai aur jo kabhi milega vah ab bhee mila huya hai. Vastu, Vyakti, Paristhiti aur Avastha sadaiv hamase Alag hain aur prabhu nity prapt hai. Vah kabhi Alag hai nahin, hoga nahin, ho sakata nahin. k‍yon? Usi ki ham sab Abhivyakti hain. Ham se Vah door nahin hai, keval usase Vimukhata ho gayi hai. Vimukhata ki…………..

Description about eBook : It is a fact of life that what will ever be different is now different and what ever will be found is still mixed. The object, the person, the situation and the state are always separate from us and the Lord is eternally attained. He is never different, will not, cannot be. Why? We are all expressions of that. He is not far from us, only he is alienated. Discontinuity…………..

“हमें जो मिलता है, उससे हम जीविका बना सकते हैं; लेकिन हम जो देते हैं, वह जीवन बनाता है।” ‐ आर्थर एशे
“From what we get, we can make a living; what we give, however, makes a life.” ‐ Arthur Ashe

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment