सत्य का स्वप्न : डॉ. रामकुमार वर्मा द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – नाटक | Satya Ka Svapna : by Dr. Ramkumar Verma Hindi PDF Book – Drama (Natak)

Book Nameसत्य का स्वप्न / Satya Ka Svapna
Author
Category, , , , ,
Language
Pages 132
Quality Good
Size 13 MB
Download Status Available

सत्य का स्वप्न का संछिप्त विवरण : लता शीघ्रता से जाती है | राजेश चाय का एक घूंट पीते हुए शून्य इष्टि से दीवाल पर लगे हुए भारत के मानचित्र की ओर देखते है | पुष्पवती (आधुनिक जबलपुर के समीप) पर उनकी इष्टि रूकती है| बह स्थान उनकी इष्टि से वृहत आकार धारण करते हुए एक महल में परिवर्तित होता है | वे उसे गहरी इष्टि से देखते है | इतने में ही लता का शीघ्रता से अपने….

Satya Ka Svapna PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Lata sheeghrata se jati hai. Rajesh chay ka ek ghunt peete huye shoony drashti se deeval par lage huye bharat ke manachitr kee or dekhate hai. Pushpavati (Adhunik jabalapur ke sameep) par unaki drshti rookati hai. Vah sthan unaki drshti se vrhat aakar dharan karate huye ek mahal mein parivartit hota hai. Ve use gaharee drshti se dekhate hai. Itane mein hee lata ka sheeghrata se apane………….
Short Description of Satya Ka Svapna PDF Book : The climax goes quickly. Rajesh looks at a map of India engaged in a wall with zero views while drinking a sip of tea. His vision stops at Pushpavati (near modern Jabalpur). The place changes its shape into a palace holding a large size. They see him with a deep vision. Soon enough, the creep of its own…………..
“याद रखें कि कोई भी आपकी सहमति के बिना आपको नीचा नहीं महसूस करवा सकता।” ‐ एलेनोर रूसवेल्ट
“Remember no one can make you feel inferior without your consent.” ‐ Eleanor Roosevelt

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment