शाहआलम : सुरेन्द्र कान्त द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – उपन्यास | Shahalam : by Surendra Kant Hindi PDF Book – Novel (Upanyas)

शाहआलम : सुरेन्द्र कान्त द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - उपन्यास | Shahalam : by Surendra Kant Hindi PDF Book - Novel (Upanyas)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name शाहआलम / Shahalam
Author
Category, , , ,
Pages 194
Quality Good
Size 3 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : औरंगजेब के बाद दिल्‍ली के सिंहासन की डौवाडोल स्थिति ने शाही खानदान को तरह-तरह के कष्ट झेलने पर विवश कर दिया था। यह शहजादा भी उन्ही मे से एक था। इमादुल्मुल्क के अत्याचारों से तंग आकर शहशांह ने युवराज को दिल्ली छोड़कर अपने भाग्य का स्वय॑ निर्माण करने की सलाह दी थी क्योंकि उन दिनों दिल्ली खून की प्यासी थी। किसी भी दिन शहजादों के खून……..

Pustak Ka Vivaran : Aurangajeb ke Bad Delhi ke Sinhasan kee dauvanol sthiti ne shahi khanadan ko tarah-tarah ke kasht jhelane par vivash kar diya tha. Yah Shahajada bhee unhee me se ek tha. Imadulmulk ke Atyacharon se tang Aakar Shahashanh ne Yuvraj ko Delhi Chhodkar apane bhagy ka svayan nirman karane kee salah dee thee kyonki un dinon delhi khoon kee pyasi thee. Kisi bhee din Shahajadon ke khoon………

Description about eBook : After Aurangzeb, the regal position of the throne of Delhi forced the royal family to suffer a variety of hardships. This princess was also one of them. Fed up with the atrocities of Emadulmulk, the emperor advised Yuvraj to leave Delhi to build his own destiny as Delhi was thirsty for blood in those days. On any given day the blood of the princesses ……….

“अपेक्षा ही मनोव्यथा का मूल है।” विलियम शेक्सपियर
“Expectation is the root of all heartache.” William Shakespeare

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment