शक्तिदायी विचार : स्वामी विवेकानन्द द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Shaktidayi Vichar : by Swami Vivekanand Hindi PDF Book – Social (Samajik)

Book Nameशक्तिदायी विचार / Shaktidayi Vichar
Author
Category, ,
Language
Pages 22
Quality Good
Size 804 KB

पुस्तक का विवरण : संसार की क्रूरता और पापों की बात मत करो। इसी बात पर खेद करो कि तुम अभी भी क्रूरता देखने को विवश हो। इसी का तुमको दुःख होना चाहिए कि तुम सब ओर केवल पाप देखने के लिए बाध्य हो। यदि तुम संसार की सहायता करना आवश्यक समझते हो, तो उसकी निन्‍दा मत करो। उसे और अधिक कमजोर मत बना……..

Pustak Ka Vivaran : Sansar ki krurata aur Papon ki bat mat karo. Isi bat par khed karo ki tum abhee bhee krurata dekhane ko vivash ho. Isi ka tumako duhkh hona chahiye ki tum sab or keval pap dekhane ke liye badhy ho. yadi tum sansar ki sahayata karana aavashyak samajhate ho, to usakee ninda mat karo. Use aur adhik kamjor mat banayo…….

Description about eBook : Do not talk about the cruelty and sins of the world. Sorry about the fact that you are still forced to see cruelty. You should feel sad that you are bound to see sin everywhere. If you think it is necessary to help the world, do not condemn it. Do not make him more vulnerable…….

“शरीर के मामले में जो स्थान साबुन का है, वही आत्मा के संदर्भ में आंसू का” यहूदी कहावत
“What soap is for the body, tears are for the soul.” Jewish Proverb

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment