श्री चक्र रहस्य : पं० रमादत्त शुक्ल द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – ज्योतिष | Shri Chakra Rahasya : by Pt. Ramadatt Shukla Hindi PDF Book – Astrology (Jyotish)

श्री चक्र रहस्य : पं० रमादत्त शुक्ल द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - ज्योतिष | Shri Chakra Rahasya : by Pt. Ramadatt Shukla Hindi PDF Book - Astrology (Jyotish)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name श्री चक्र रहस्य / Shri Chakra Rahasya
Author
Category,
Language
Pages 74
Quality Good
Size 15 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : कौल-कल्पतरु’ पण्डित देवीदत्त शुक्ल जी के उपदेशों के अनुसार देवता के साक्षात्कार के लिए, उससे सम्पर्क बनाने के लिए प्रारम्भ में किसी-न-किसी आधार को ग्रहण करना आवश्यक होता है | अपने इष्ट-देवता के ध्यानानुरूप ‘प्रतिमा’ ‘चित्र’ और ‘पूजा-यंत्र’ ही ये आधार है | ‘प्रतिमा’ स्थुलतम प्रतीक…….

Pustak Ka Vivaran : Kaul-kalpataru pandit Devidatt shukl ji ke upadeshon ke anusar devta ke sakshatkar ke lie, usse sampark banane ke lie prarambh mein kisi-na-kisi aadhar ko grahan karna aavashyak hota hai. Apne isht-devta ke dhyananurup pratima chitr aur pooja-yantr hi ye aadhar hai. Pratima sthultam pratik hai…………

Description about eBook : According to the teachings of ‘Kaul-Kalpataru’ Pandit Devi Dutt Shukl ji, for the interaction of the deity, it is necessary to take some form in the beginning to contact the person. The meditative ‘image’ of your favored deity is the ‘picture’ and ‘pooja-yantra’. ‘Statue’ is a permanent symbol……………..

“कभी कभार सुख के पीछे भागना छोड़ कर बस सुखी होना भी एक अच्छी बात है।” ‐ गियोम अपोलिनेयर
“Now and then it’s good to pause in our pursuit of happiness and just be happy.” ‐ Guillaume Apollinaire

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

2 thoughts on “श्री चक्र रहस्य : पं० रमादत्त शुक्ल द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – ज्योतिष | Shri Chakra Rahasya : by Pt. Ramadatt Shukla Hindi PDF Book – Astrology (Jyotish)”

    • पुस्तक भली भांति डाउनलोड हो रही है आपसे अनुरोध है पुनः प्रयास करें डाउनलोड बटन पेज को नीचे की ओर ले जाने पर मिल जायगा धन्यवाद्|

      Reply

Leave a Comment