श्रीवत्स : डॉ. कैलाशनाथ भटनागर द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – नाटक | Shri Vatsa : by Dr. Kailash Nath Bhatnagar Hindi PDF Book – Drama (Natak)

Book Nameश्रीवत्स / Shri Vatsa
Author
Category, , , , ,
Language
Pages 180
Quality Good
Size 4.41 MB
Download Status Available

श्रीवत्स का संछिप्त विवरण : राष्ट्र की मर्यादा उसकी संस्कृति में निहित है। युग युग की साधना से जन-समुदाय जिस बौद्धिक विकास सीमा तक पहुँचाना चाहता है, उसी विकास की प्रेरणा में संस्कृति की रूप-रेखा का निर्माण होता है। अत: यह संस्कृति किसी भी देश की अवनरत तपस्या की शक्ति होती है। जो आगामी सन्नति के लिए पथ-प्रदर्शन का काम करती है। जिस प्रकार एक वृक्ष…

Shri Vatsa PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Rashtra kee maryada usaki sanskrti mein nihit hai. Yug yug kee sadhana se jan-samuday jis bauddhik vikas seema tak pahunchana chahata hai, usee vikas ki prerana mein sanskrti kee roop-rekha ka nirman hota hai. At: yah sanskrti kisi bhee desh kee avanarat tapasya kee shakti hoti hai. jo Agami sannati ke lie path-pradarshan ka kam karati hai. Jis prakar ek vrksh…………
Short Description of Shri Vatsa PDF Book : The dignity of the nation lies in its culture. Cultivation of Yuga Yuga creates the framework of culture in the inspiration of the same development to which the mass community wants to reach. Therefore, this culture is the power of austerity of any country. Which serves as a guide for the upcoming eternity. Like a tree………..
“निराशावादी व्यक्ति पवन के बारे में शिकायत करता है; आशावादी इसका रुख बदलने की आशा करता है; लेकिन यथार्थवादी पाल को अनुकूल बनाता है।” ‐ विलियम आर्थर वार्ड
“The pessimist complains about the wind; the optimist expects it to change; the realist adjusts the sails.” ‐ William Arthur Ward

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment