सुख के पल : तुलसी देवी तिवारी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – उपन्यास | Sukh Ke Pal : by Tulsi Devi Tiwari Hindi PDF Book – Novel (Upanyas)

Book Nameसुख के पल / Sukh Ke Pal
Author
Category, , ,
Language
Pages 117
Quality Good
Size 31 MB
Download Status Available

सुख के पल का संछिप्त विवरण : तीर्थों के दर्शन कराने का दुस्साहस भी किया है। अब तक मैंने जो लेखन किया, उससे ऊँचे स्तर की कृति समझती हूँ मैं “सुख के पल’ को, शेष निर्णय तो पाठकों के हाथ में है। आशा ही नहीं पूर्ण विश्वास है कि इस पुस्तक को भी आप का वैसा ही स्नेह और आशीर्वाद मिलेगा, जैसा अन्य कृतियों को प्राप्त हुआ……..

Sukh Ke Pal PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Teerthon ke darshan karane ka dussahas bhi kiya hai. Ab tak mainne jo lekhan kiya, usase oonche star ki krti Samajhati hoon main “Sukh ke pal ko, shesh nirnay to pathakon ke hath mein hai. Aasha hi nahin purn vishvas hai ki is pustak ko bhee aap ka vaisa hi sneh aur Aashirvad milega, jaisa any krtiyon ko prapt huya……..
Short Description of Sukh Ke Pal PDF Book : He has also dared to visit the shrines. From what I have written so far, I consider it to be a work of high level, the rest of the decision is in the hands of the readers. Not only hope but also have full faith that this book will also get the same love and blessings from you. , as received by other works…….
“हर मित्रता के पीछे कुछ स्वार्थ होता है। बिना स्वार्थ के कोई मित्रता नहीं होती। यह एक दुःखद सत्य है।” ‐ चाणक्य
“There is some self-interest behind every friendship. There is no friendship without self- interests. This is a bitter truth.” ‐ Chanakya

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment