मोम के पंख : नवल पाल प्रभाकर द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – काव्य | Mom Ke Pankh : by Naval Pal Prabhakar Hindi PDF Book – Poetry ( Kavya )

Book Nameमोम के पंख / Mom Ke Pankh
Author
Category, , ,
Language
Pages 110
Quality Good
Size 807 KB
Download Status Available

मोम के पंख  पीडीऍफ़ पुस्तक का संछिप्त विवरण : मोम के कोमल पंख लगाकर मैं क्यों सूरज को छूना चाहता हूँ | बारूद के ढेर पर बैठ
कर मैं क्यों आग से खेलना चाहता हूँ | पता है मुझको जीवन मेरा काँटों से भरा हुआ है, कांटो भरी राहो पर
चलकर मैं क्यों फूलो की इच्छा रखता हूँ | मोम के कोमल पंख लगाकर मैं क्यों सूरज को छूना चाहता हूँ | हर
पल हर क्षण पता नहीं कब आंधी कब तुंफा आएं बैठ इस किनारे पर मैं किनारा वो पाना चाहता हूँ……….

Mom Ke Pankh PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : ke komal pankh lagakar main kyon suraj ko chhuna chahta hun. Barud ke dher par baith kar main kyon aag se khelna chahta hun. Pata hai mujhko jeevan mera kanton se bhara hua hai, kanto bhari raho par chalkar main kyon phulo ki ichchha rakhta hun. Mom ke komal pankh lagakar main kyon suraj ko chhuna chahta hun. Har pal har kshan pata nahin kab aandhi kab tumpha aaen baith is kinare par main kinara vo pana chahta hun…………

Short Description of Mom Ke Pankh  Hindi PDF Book : Why do I want to touch the sun by putting soft wings of wax? Why do I want to play with fire by sitting on a pile of gunpowder. I know that life is full of my thorns, but I have a desire to live on a thorny path. Why do I want to touch the sun by putting soft wings of wax? At every moment, I do not know every time when the storm comes when it comes to me, I want to get it on the edge………

 

“ऐसा व्यक्ति जो अनुशासन के बिना जीवन जीता है वह सम्मान रहित मृत्यु मरता है।” ‐ आईसलैण्ड की कहावत
“He who lives without discipline dies without honor.” ‐ Icelandic Proverb

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment