तमसा : श्री रामेश्वर ‘करुण’ द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कहानी | Tamsa : by Shri Rameshvar ‘Karun’ Hindi PDF Book – Story (Kahani)

तमसा : श्री रामेश्वर 'करुण' द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - कहानी | Tamsa : by Shri Rameshvar 'Karun' Hindi PDF Book - Story (Kahani)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name तमसा / Tamsa
Author
Category, , ,
Pages 310
Quality Good
Size 2.4 MB
Download Status Available

तमसा का संछिप्त विवरण : धर्म की इस धाँधली के कारण ही संसार में विकार का प्रसार इतना अधिक है। इस के विनाश के लिये विचारों के और भावों के बहुत से दहकते हुए अंगारों की आवश्यकता है। वह अंगारे ‘करुण ! सरीखे कवियों की ही कविता से उत्पन्न हो सकते हैं। चलती चक्की देख के कबीर की तरह रोने से यह काम नहीं होने का | उपाय लो वह कारगर होगा कि जिसके द्वारा रस चक्की………..

Tamsa PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Dharm ki is Dhandhali ke karan hi sansar mein vikar ka prasar itana adhik hai. Is ke vinash ke liye vicharon ke aur bhavon ke bahut se dahakate huye angaron ki Aavashyakata hai. Vah angare karun ! sarikhe kaviyon ki hi kavita se utpann ho sakate hain. Chalati chakki dekh ke kabir ki tarah rone se yah kam nahin hone ka. Upay lo vah kargar hoga ki jisake dvara ras chakki…….
Short Description of Tamsa PDF Book : Due to this rigging of religion, the spread of disorder in the world is so much. For its destruction, many burning embers of thoughts and feelings are needed. Those embers’ compassion! Poets like these can arise from poetry only. Seeing the moving mill and crying like Kabir will not do this work. Take the remedy that will be effective by which the juice grinder……
“समस्या यह नहीं है कि समस्याएं हैं। अन्यथा प्रत्याशित करना है और यह सोचना कि समस्याएं हैं, यही समस्या है।” ‐ थियोडोर रूबिन
“The problem is not that there are problems. The problem is expecting otherwise and thinking that having problems is a problem.” ‐ Theodore Rubin

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment