वाणी वितस्ता की कश्मीरी लोक गीत : पृथ्वीनाथ मधुप द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – साहित्य | Vani Vitasta Ki Kashmiri Lok Geet : by Prathvinath Madhup Hindi PDF Book – Literature (Sahitya)

Book Nameवाणी वितस्ता की कश्मीरी लोक गीत / Vani Vitasta Ki Kashmiri Lok Geet
Author
Category, , , ,
Language
Pages 120
Quality Good
Size 56 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : एवं निश्चल अनुभूतियों को सहज अभिव्यक्ति प्रदान करने वाले लोकगीतों का चयन करने में मधुप’ जी ने अतीव कौशल का परिचय दिया है | मूल कश्मीरी गीतों की लय को हिन्दी अनुवाद में यथावत रखने का प्रयास भी सराहनीय है। हमें विश्वास है कि हिन्दी जगत डोगरी लोक गीतों के संग्रह “थिरके पत्ता पीपल का” की ही भांति “वाणी वितस्ता की” का-भी मुक्त हृदय से स्वागत करेगा…

Pustak Ka Vivaran : Evan Nishchal Anubhutiyon ko sahaj Abhivyakti pradan karane vale lokageeton ka chayan karane mein madhup jee ne ateev kaushal ka parichay diya hai. Mool kashmeeri Geeton kee lay ko hindi Anuvad mein yathavat rakhane ka prayas bhee sarahaniy hai. Hamen vishvas hai ki hindi jagat dogari lok geeton ke sangrah “Thirake patta peepal ka” ki hi bhanti “Vani vitasta ki” ka-bhee mukt hrday se svagat karega………

Description about eBook : And Madhup ‘Ji has shown immense skill in selecting folk songs that provide smooth expression to immature feelings. The effort to keep the rhythm of the original Kashmiri songs in Hindi translation unchanged is also commendable. We are confident that the Hindi world will welcome “Vani Vistasta Ki” with a heart full of Dogri folk songs collection “Thirke Patta Peepal Ka”……..

“हमें न अतीत पर कुढ़ना चाहिए और न ही हमें भविष्य के बारे में चिंतित होना चाहिए; विवेकी व्यक्ति केवल वर्तमान क्षण में ही जीते हैं।” ‐ चाणक्य
“We should not fret for what is past, nor should we be anxious about the future; men of discernment deal only with the present moment.” ‐ Chanakya

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment