विवेक वैराग्य श्लोक संग्रह : ज्ञानेश्वरार्य द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – ग्रन्थ | Vivek Vairagya Shlok Sangrah : by Gyaneshvarary Hindi PDF Book – Granth

विवेक वैराग्य श्लोक संग्रह : ज्ञानेश्वरार्य द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - ग्रन्थ | Vivek Vairagya Shlok Sangrah : by Gyaneshvarary Hindi PDF Book - Granth
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name विवेक वैराग्य श्लोक संग्रह / Vivek Vairagya Shlok Sangrah
Author
Category, ,
Language
Pages 19
Quality Good
Size 5 MB
Download Status Available

विवेक वैराग्य श्लोक संग्रह का संछिप्त विवरण : हे सर्वव्यापक आनंद के सागर प्रभुदेव ! मुझे उत्तम बुद्धि प्रदान कीजिये। हे दीनबन्धो ! मुझ में जो बुरे गुण, कर्म, स्वभाव है, उन्हें कृपा करके दूर कीजिये। मेरी इन्द्रियां और मन अत्यंत चंचल तथा अपवित्र है, इनको पवित्र तथा स्थिर कीजिये। मैं आपकी शरण में आया हूँ आप दयाकर मुझ सेवक को अपने आश्रय में रख लीजिये…..

Vivek Vairagya Shlok Sangrah PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : He Sarvavyapak Anand ke sagar prabhudev ! Mujhe uttam buddhi pradan keejiye. He deenabandho ! Mujh mein jo bure gun, karm, svabhav hai, unhen krpa karake door keejiye. Meri Indriyan aur man atyant chanchal tatha apavitra hai, inako pavitra tatha sthir keejiye. Main Aapaki sharan mein Aaya hoon aap dayakar mujh sevak ko apane Aashray mein rakh leejiye…………
Short Description of Vivek Vairagya Shlok Sangrah PDF Book : Prabhu Deva, the ocean of universal happiness! Give me great wisdom. Hey Dinbandho! Please remove the bad qualities, deeds and nature that I have. My senses and mind are very fickle and unholy, make them pure and stable. I have come to your shelter, you kindly keep my servant in your shelter………..
“यदि आप अपने जीवन को अपनी मर्जी के अनुसार नहीं चला पाते, तो आपको अपनी परिस्थितियों को अवश्य ही स्वीकार कर लेना चाहिए।” ‐ टी एस एलियट
“If you haven’t the strength to impose your own terms upon life, you must accept the terms it offers you.” ‐ T S Eliot

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment