व्यक्तिगत : पांडेय बेचन शर्मा ‘उग्र’ द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – साहित्य | Vyaktigat : by Pandey Bechan Sharma ‘Ugra’ Hindi PDF Book – Literature (Sahitya)

व्यक्तिगत : पांडेय बेचन शर्मा 'उग्र' द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - साहित्य | Vyaktigat : by Pandey Bechan Sharma 'Ugra' Hindi PDF Book - Literature (Sahitya)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name व्यक्तिगत / Vyaktigat
Author
Category,
Language
Pages 118
Size 3 MB
Download Status Available

व्यक्तिगत का संछिप्त विवरण : पिछले २५ बरसों के परिचय में वर्माजी मुझे कानपुर में मिले, बनारस में मिले, कलकत्ता, इंदौर और बंबई में मिले। मैं प्राय: उनसे नाराज़ ही रहा, पर बह बराबर क्षमाशील और मुस्किराते ही रहे। पर मैं क्यों नाराज होता हूँ, कैसे नाराज होता हूँ, और वह कैसे क्षमाशील रहते हैं, इसके एक-दो उदाहरण देने से शायद लोगों को हमारे स्वभाव के बारे में विशेष……..

Vyaktigat PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Pichhale 25 Barson ke parichay mein vermaji mujhe kanpur mein mile, banaras mein mile, kalkatta, indore aur bombay mein mile. Main prayah unase naraz hi raha, par bah barabar kshamasheel aur muskirate hi rahe. Par main kyon Nataj hota hoon, kaise naraj hota hoon, aur vah kaise kshamasheel rahate hain, isake ek-do udaharan dene se shayad logon ko hamare svabhav ke bare mein vishesh……
Short Description of Vyaktigat PDF Book : Vermaji met me in Kanpur, Banaras, Calcutta, Indore and Bombay during the last 25 years of acquaintance. I was often angry with him, but always forgiving and smiling. But giving a couple of examples of why I get angry, how I get angry, and how forgiving he is, might give people a special idea of ​​our nature……
“इतने भगवान और इतने धर्म, और इतनी घुमावदार राहें। सिर्फ करुणा की कला की ज़रूरत है इस दुखी संसार को।” एल्ला व्हीलर विलकौक्स (कवयित्री)
“So many gods, so many creeds, so many paths that wind and wind, While just the art of being kind is all the sad world needs.” Ella Wheeler Wilcox (Poet)

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment