युवाचार्य महाप्रज्ञ : मुनि दुलहराज द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Yuvacharya Mahapragy : by Muni Dulahraj Hindi PDF Book

युवाचार्य महाप्रज्ञ : मुनि दुलहराज द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Yuvacharya Mahapragy : by Muni Dulahraj Hindi PDF Book
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name युवाचार्य महाप्रज्ञ / Yuvacharya Mahapragy
Author
Category,
Language
Pages 475
Quality Good
Size 13.3 MB
Download Status Available

युवाचार्य महाप्रज्ञ का संछिप्त विवरण : मनुष्य का जीवन व्याधि, आधी और उपाधि इन तीन दिशाऊन मे चल रहा है। कभी शारीरिक कष्ट, कभी होना अस्वाभाविक नहीं है। प्रकृतिक और सामाजिक प्रभावों के बीच जीने वाला व्यक्ति कष्ट से मुख्त नहीं रह सकता। पर मनुष्य नहीं चाहता की कष्ट हो। वह ऐसी अवस्था मे रहना चाहता है जो कष्टों से अतीत हो। वह अवस्था है समाधि……..

Yuvacharya Mahapragy PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Manushy ka jeevan vyaadhi, aadhee aur upaadhi in teen dishaoon me chal raha hai. kabhee shaareerik kasht, kabhee hona asvaabhaavik nahin hai. prakrtik aur saamaajik prabhaavon ke beech jeene vaala vyakti kasht se mukht nahin rah sakata. par manushy nahin chaahata kee kasht ho. vah aisee avastha me rahana chaahata hai jo kashton se ateet ho. vah avastha hai samaadhi………….
Short Description of Yuvacharya Mahapragy PDF Book : Man’s life is going on in the path of disease, half ankha and three directions. Sometimes physical pain, sometimes it is not unnatural. The person who lives between nature and social influences can not be left with hardships. But man does not want to suffer. He wants to live in a state that is suffering from suffering. That state is samadhi…………..
“याद रखें कि सबसे खुश वे नहीं जिन्हें अधिक मिल रहा हो, बल्कि वे हैं जो ज्यादा दे रहे हैं।” ‐ एच जैक्सन ब्राउन, जूनियर
“Remember that the happiest people are not those getting more, but those giving more.” ‐ H Jackson Brown, Jr.

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment