आदमी से प्यार कर लो : जगदीश प्रसाद सक्सेना द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – उपन्यास | Aadmi Se Pyar Kar Lo : by Jagdish Prasad Saxena Hindi PDF Book – Novel ( Upanyas )

Book Nameआदमी से प्यार कर लो / Aadmi Se Pyar Kar Lo
Author
Category
Language
Pages 123
Quality Good
Size 4 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : मेरी काव्य-कला का कंचन केवल तुम ही परख सकोगे क्योंकि कसौटी इस कंचन की और किसी के पास नहीं है। मैं तो केवल एक श्रमिक हूँ नित श्रम की पूजा करता हूँ गहरे उर की खान खोद कर कंचन से गहने गढ़ता हूँ। मेरे श्रम का पारिश्रमिक तो केवल तुम ही बता सकोगे क्योंकि योग्यता मुख्यांकन की और किसी के पास नहीं है………..

Pustak Ka Vivaran : Meri kavy-kala ka kachan keval tum hi parakh sakoge kyonki kasauti is kachan ki aur kisi ke paas nahin hai. Main to keval ek shramik hun nit shram ki pooja karta hun gahare ur ki khan khod kar kachan se gahne gadhta hun. Mere shram ka parishramik to keval tum hi bata sakoge kyonki yogyata mulyakan ki aur kisi ke paas nahin hai…………

Description about eBook : Only poetry of my poetry will be able to test you only because the criterion is in this digestion and nobody has it. I am only a laborer, I am worried about labor, digging a deep ur mine and digging ornaments with kachan. The remuneration of my labor will only be able to tell you because no one else has the ability to evaluate…………..

“शिखर तक पहुंचने के लिए ताकत चाहिए होती है, चाहे वह एवरेस्ट पर्वत का शिखर हो या आपके पेशे का।” ऐ पी जे अब्दुल कलाम
“Climbing to the top demands strength, whether it is to the top of Mount Everest or to the top of your career.” APJ Abdul Kalam

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment