एक आदमी के ज़िद की आंतरिक रिपोर्ट : प्रफुल्ल कोलख्यान द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – उपन्यास | Ek Aadmi Ke Zid Ki Antarik Report : by Prafull Kolakhyan Hindi PDF Book – Novel (Upanyas)

Book Nameएक आदमी के ज़िद की आंतरिक रिपोर्ट / Ek Aadmi Ke Zid Ki Antarik Report
Author
Category, ,
Language
Pages 8
Quality Good
Size 754 KB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : उसकी मूल रचनात्मक चेतना भी है। इसी मूल चेतना का रचनात्मक विन्यास पूरे उपन्यास में प्रतिफलित है। ‘आस्था’ और “विश्वास’ तुलसीदास की पूँजी और ‘रामचरितमानस’ का प्राण है। ‘एक बड़ा कवि है और अपनी हस्ती और हैसियत से बखूबी परिचित है। उसे अपने ग्रन्थ और विचारों के लिए एक मूढ़ और अंधी आस्था तैयार करनी है। जाने-अनजाने वह……..

Pustak Ka Vivaran : Uski Mool Rachanatmak chetana bhi hai. Isi mool Chetna ka Rachanatmak vinyas poore upanyas mein pratiphalit hai. Aastha aur “Vishvas Tulsi Das ki poonji aur Ramcharitmanas ka pran hai. Ek bada kavi hai aur apni hasti aur haisiyat se bakhoobi parichit hai. Use Apne Granth aur vicharon ke liye ek moodh aur andhi Aastha taiyar karani hai. Jane-Anjane vah………

Description about eBook : He also has a basic creative consciousness. The creative configuration of this core consciousness is reflected throughout the novel. ‘Faith’ and ‘Faith’ are the capital of Tulsidas and the soul of ‘Ramcharitmanas’. He is a great poet and is well acquainted with his personality and status. He has to develop a foolish and blind faith in his texts and thoughts. Unknowingly he………

“मुझे जीवन से प्यार है, क्योंकि और है ही क्या।” एंथनी होपकिंस
“I love life because what more is there.” Anthony Hopkins

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment