अभी झरत बिगसत कंवल : ओशो द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक – आध्यात्मिक | Abhi Jharat Bigsat Kanval : by Osho Hindi PDF Book – Spiritual (Adhyatmik)

अभी झरत बिगसत कंवल : ओशो द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक – आध्यात्मिक | Abhi Jharat Bigsat Kanval : by Osho Hindi PDF Book – Spiritual (Adhyatmik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name अभी झरत बिगसत कंवल / Abhi Jharat Bigsat Kanval
Author
Category, , ,
Language
Pages 359
Quality Good
Size 2.3 MB

पुस्तक का विवरण : मनुष्य-चेतना के तीन आयाम हैं। एक आयाम है गणित का, विज्ञान का, गद्य का। दूसरा आयाम है-प्रेम का, काव्य का, संगीत का। और तीसरा आयाम है – अनिर्वचनीय। न उसे गद्य में कहा जा सकता, न पद्य मे। तर्क तो असमर्थ है ही उसे करने में, प्रेम के भी पंख टूट जाते है……….

अभी झरत बिगसत कंवल : ओशो द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक – आध्यात्मिक | Abhi Jharat Bigsat Kanval : by Osho Hindi PDF Book – Spiritual (Adhyatmik)

Pustak Ka Vivaran : Manushy-chetana ke tin ayam hain. Ek ayam hai–ganit ka, vigyan ka, gady ka. Doosara ayam hai–prem ka, kavy ka, sangit ka. Aur tisara ayam hai–anirvachaniy. Na use gady mein kahan ja sakata, na pady mein! tark to asamarth hai hi use kahane mein, prem ke bhi pankh toot jate hain………….

Description about eBook : There are three dimensions of man-consciousness. There is one dimension – of mathematics, of science, of prose. The second dimension is – love, poetry, music. And the third dimension is – indefinable. Neither can she go into prose, nor in verse! In order to tell him the reasoning is incapable, the feathers of love also get broken…………..

“इस दुनिया में जो कुछ हम अर्जित करते हैं, उससे नहीं अपितु जो कुछ त्याग करते हैं, उससे समृद्ध बनते हैं।” ‐ हैनरी वार्ड बीचर
“In this world it is not what we take up, but what we give up, that makes us rich.”

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment