झरत दसहुं दिस मोती : ओशो द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक – आध्यात्मिक | Jharat Dasahun Dis Moti : by Osho Hindi PDF Book – Spiritual (Adhyatmik)

झरत दसहुं दिस मोती : ओशो द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक - आध्यात्मिक | Jharat Dasahun Dis Moti : by Osho Hindi PDF Book - Spiritual (Adhyatmik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name झरत दसहुं दिस मोती / Jharat Dasahun Dis Moti
Author
Category, , ,
Language
Pages 542
Quality Good
Size 3.3 MB

पुस्तक का विवरण : आंखें हों तो परमात्मा प्रति क्षण बरस रहा है। आंखें न हों तो पढ़ो कितने ही शास्त्र, जाओ कावा, जाओ काशी, जाओ कैलाश, सव व्यर्थ है। आंख है, तो अभी परमात्मा है-यहीं! हवा की तरंग-तरंग में, पक्षियों की आवाजों में, सूरज की किरणों में, वृक्षों के पत्तों में ! परमात्मा का कोई प्रमाण नहीं है………..

Jharat Dasahun Dis Moti : by Osho Hindi PDF Book - Spiritual (Adhyatmik)

PustakKaVivaran : Ankhen hon to Paramatma prati kshan varas raha hai. Ankhen na hon to padho kitane hi shastr, jao kava, jao kashi, jao kailash, sav vyarth hai. Ankh hai, to abhi paramatma hai-yahin! hava ki tarang-tarang mein, pakshiyon ki avajon mein, sooraj ki kiranon mein, vrkshon ke patton mein ! Paramatama ka koi praman nahin hai………….

Description about eBook : If you have eyes, then God is always proud. If you do not have eyes, read many scriptures, go Kava, go Kashi, go Kailash, everything is useless. If there is an eye, then it is divine, right here! In the wave-wave of the air, in the voices of birds, in the rays of the sun, in the leaves of trees! There is no proof of God……………….

“दिल की आवाज़ का दिमाग को कोई ज्ञान नहीं होता है।” ‐ ब्लैस पास्कल
“The heart has its reasons of which reason knows nothing.” ‐ Blaise Pascal

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment