अरे चांडाल : प्रमोद कुमार तिवारी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – उपन्यास | Are Chandal : by Pramod Kumar Tiwari Hindi PDF Book – Novel (Upanyas)

अरे चांडाल : प्रमोद कुमार तिवारी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - उपन्यास | Are Chandal : by Pramod Kumar Tiwari Hindi PDF Book - Novel (Upanyas)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name अरे चांडाल / Are Chandal
Author
Category, ,
Language
Pages 468
Quality Good
Size 41 MB
Download Status Available

Pustak Ka Vivaran : Jate huye aprail kee udas dopahar hop kee paneelee laharen bana rahee thee tootee phootee sadak par. Sadak ke doosare kinare khade aam ke ikalaute ped ke neeche jama huye gareebee rekha ke aasapas vale adhanange ladake bache-khuche tikoron ko bhee dhoolisat kar dene kee koshish mein jute huye the. Unakee bhainse bhee unakee taraph se utanee hee laparavahee thee ,jitana unaka desh tha…………

Description about eBook : On the depressed afternoon of April, there was a cloudy wave of hop forming on the broken road. The half-naked boys gathered around the poverty line, gathered under the only mango tree standing on the other side of the road, were also trying to dust off the remaining ticks. His buffalo was as careless on his side as his country………..

सुतक का विवरण : हरिशचन्द्र घाट की धूल भरी सुनसान सीढ़ियों पर मैं गालों पर हाथ धरे चुपचाप मौन साधे लगा-यह युवती किस लिए और किसके लिए रो रही है ? उसके पति के शरीर में कोन था ? वह कहाँ से आया था? फिर कहाँ चला गया ? क्या पार्थिव शरीर के लिए ? शायद शरीर के प्रति मोह-माया ही विलाप का एक मात्र कारण है…….

“जीवन में मानव का मुख्य कार्य स्वयं का सृजन करना है, वह बनना जिसकी उसमें संभाव्यता है। उसके प्रयास का सबसे महत्त्वपूर्ण उत्पाद उसका स्वयं का व्यक्तित्व होता है।” एरिक फ्राम्म
“Man’s main task in life is to give birth to himself, to become what he potentially is. The most important product of his effort is his own personality.” Erich Fromm

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment